रचनाकार

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका

प्रेम कविताएँ - एक तलाश तो पूरी होगी

image

सतीश कसेरा

एक तलाश तो पूरी होगी..............

मैंने इसलिये जन्म नहीं लिया है

कि मैं प्रेम करुं, दिल टूटे

मैं रोउं, रातों को जागूं, और

मोहपाश में बंधा-बंधा

बेबस सा होकर रह जाउं।

मुझे तो धरती के गर्भ तक जाना है

छूना है आसमानों को

कुछ बनना है वह, जिसके लिये जन्मा हूं मैं

इसलिये मुझे भटकने दो

ठोकरें खाने दो

रास्तों को जानने दो

मंजिलों को तलाशने दो।

मेरी प्रिय,मेरे पांव में

अपने प्रेम की जंजीर मत बांधो

या तो मेरे लौटने का इंतजार करो

नहीं, तो मेरे साथ चलो

दोनों मिलकर भटकेंगे

तो तुमको मेरी, मेरी तुमको

एक तलाश तो पूरी होगी

 

तू मेरा आधार है..............

है कठिन जीवन बहुत,

चहुं ओर हाहाकार है

बोझ घर का सर पे है,

हर चीज की दरकार है।

बहन शादी को है तरसे,

भाई तक बेकार है

मात-पिता चुप हैं दोनों,

थक चुके लाचार हैं।

मैं अकेला लड रहा हूं,

तीर ना तलवार है

खट रहा हूं, बंट रहा हूं,

घुट रहा घर-बार है।

हौसला देता है मुझको,

एक तेरा प्यार है

तू जमीं, तू आस्मां,बस,

तू मेरा आधार है।

 

मेरे दर्द को तो नहीं छुआ.......

अच्छा हुआ या बुरा हुआ

सब पहले ही से है तय हुआ।

कोई दूर से रहा ताकता

कोई पास हो के भी न हुआ।

मेरे दिल पे हाथ तो रख दिया

मेरे दर्द को तो नहीं छुआ।

मेरी बात वो समझा नहीं

जो कहा था मैंने बिन कहा।

मुझे अब भी उसकी तलाश है

जो मुझमें है कहीं गुम हुआ।

image

सतीश कसेरा

अबोहर, पंजाब

विषय:
रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget