शुक्रवार, 31 जुलाई 2015

गिरीश पंकज के प्रसिद्ध उपन्यास "एक गाय की आत्मकथा" की यथार्थ गाथा

(गिरीश पंकज के उपन्यास एक गाय की आत्मकथा का विमोचन)     दिनेश कुमार माली , तलचेर , ओडिशा   ' एक गाय की आत्मकथा ' ही क्यों ? ‘...

गुरुवार, 30 जुलाई 2015

नाराज हैं प्रकृति और परमेश्वर

डॉ. दीपक आचार्य पिण्ड और ब्रह्माण्ड का सीधा रिश्ता है जो दिखता भले न हो लेकिन इसके मुकाबले संबंधों की प्रगाढ़ता कहीं और देखी नहीं जा सकती।...

हिन्दी भाषा को केवल खड़ी बोली मानना उसी प्रकार भ्रामक है जैसे भारत को केवल दिल्ली मानना

प्रोफेसर महावीर सरन जैन हिन्दी भाषा-क्षेत्र की समावेशी अवधारणा रही है, हिन्दी साहित्य की समावेशी एवं संश्लिष्ट परम्परा रही है, हिन्दी साहि...

बुधवार, 29 जुलाई 2015

याकूब मेमन की फांसी बरकरार

प्रमोद भार्गव 1993 के मुंबई बम धमाकों में शामिल याकूब मेमन की फांसी की सजा बरकरार रहेगी। सर्वोच्‍च न्‍यायालय की तीन सदस्‍सीय खंडपीठ ने उस...

इस्मत चुगताईः एक दुस्साहसी नगमानिगार

शताब्दी वर्ष              इस्मत चुगतईः एक दुस्साहसी नगमानिगार - राजीव आनंद     इस्मत चुगतई, जिन्हें 'इस्मत आपा' के नाम से भी जाना ज...

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------