रचनाकार

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका

रचनाकार अब गूगल प्ले स्टोर पर उपलब्ध!

खुशखबरी!

रचनाकार अब गूगल प्ले स्टोर पर ऐप्प के रूप में उपलब्ध हो गया है.

गूगल प्ले स्टोर पर आप रचनाकार या rachanakar से सर्च करें और इस ऐप्प को इंस्टाल करें.

इस ऐप्प को इंस्टाल करने के बहुत से फायदे नीचे स्क्रीनशॉट से स्पष्ट हो जाएंगे, मगर फिर भी कुछ विशेष आकर्षण हैं -

  • रचनाकार में अब तक प्रकाशित रचनाओं पर एक समग्र दृष्टि
  • रचनाओं को क्रमित (सार्ट करने या छांटने) करने की अतिरिक्त सुविधा
  • नई रचनाएं प्रकाशित होने की सूचना (नोटिफिकेशन)
  • रचनाओं की सूची भिन्न तरीके से देखने की सुविधा
  • पसंदीदा रचनाओं को छांटने का तेज तरीका आदि.. आदि...

रचनाकार ऐप्प इंस्टाल करें, और साहित्य की दुनिया में खो जाएँ!

यदि आपने अपने मोबाइल या टैबलेट को डिवाइस मैनेजर के जरिए कंप्यूटर से जोड़ रखा है तो आप इस लिंक से भी इस ऐप्प को अपने मोबाइल उपकरण पर इंस्टाल कर सकते हैं -

https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org

 

और हाँ, महत्वपूर्ण बात यह कि इस ऐप्प को तकनीक द्रष्टा के श्री विनय प्रजापति ने बनाया है. उन्हें धन्यवाद.

 

ऐप्प का पहला पेज - जब रचनाकार ऐप्प लोड होता है -

image

 

दूसरे पृष्ठ पर आपको श्रेणीवार रचनाओं की सूची दिखाई देती है -

image

 

रचनाओं की सूची कई तरीके से देख सकते हैं - यह बिक आइकन वाला रूप है -

image

 

यह सूची स्माल आइकन वाला है -

image

 

आप इस ऐप्प की सेटिंग कई मनोवांछित तरीके से कर सकते हैं -

 

image

 

रचनाओं को कई तरीके से छांट सकते हैं -

image

 

साझा कर सकते हैं, अक्षरों का आकार बदल सकते हैं आदि आदि...

image

 

और, अपनी प्रतिक्रिया तो दे ही सकते हैं. अच्छा हो यदि ऐप्प के जरिए दें, या फिर प्ले स्टोर में ऐप्प इंस्टाल कर और उसका अनुभव लेकर रेटिंग दर्ज करें तो और अच्छा.

image

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

रचनाकार में ढूंढें...

आपकी रूचि की और रचनाएँ -

randompost

कहानियाँ

[कहानी][column1]

हास्य-व्यंग्य

[व्यंग्य][column1]

लघुकथाएँ

[लघुकथा][column1]

कविताएँ

[कविता][column1]

बाल कथाएँ

[बाल कथा][column1]

लोककथाएँ

[लोककथा][column1]

उपन्यास

[उपन्यास][column1]

तकनीकी

[तकनीकी][column1][http://raviratlami.blogspot.com]

वर्ग पहेलियाँ

[आसान][column1][http://vargapaheli.blogspot.com]
[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget