क़ैस जौनपुरी की हास्य-व्यंग्य कविता - नई-नवेली दुल्हन

qaisjaunpuri@gmail.com

कविता                                         

क़ैस जौनपुरी
नई-नवेली दुल्हन

नई-नवेली दुल्हन को घर में काम बहुत सा था
लेकिन उसका पति जो था पति के नाम पे धब्बा था


काम-धाम कुछ नहीं बस लुंगी पहन के रहता था
उसके बाप की पेंशन पे घर का खर्चा चलता था


सास-ससुर तो खुश थे निकम्मा बेटा सुधर जायेगा
किसे पता था बीवी पाकर और आलसी हो जायेगा


भैंस जैसी सास घर का सभी काम करवाती है
और उसके बाद अपने हाथ-पाँव दबवाती है


धूप में अपनी बहू से मालिश भी करवाती है
दुल्हन पहले सास-ससुर फिर पति के पाँव दबाती है


नई-नवेली दुल्हन घुट-घुट के सहती जाती है
दिन भर मेहनत के बाद थक-हार के सोने जाती है


फिर रात में उसका पतिदेव उसे सारी रात रुलाता है
जो दो ही मिनट में दुल्हन पे मेंढ़क सा मर जाता है


जो आदमी दिन में कुछ न करे उससे रात को क्या होगा
दुल्हन तो बेचारी सहम गयी अब उसका जाने क्या होगा


दुल्हन की पूरी ज़िन्दगी तो हो चुकी थी नरक
मग़र कसम से पड़ा नहीं किसी एक को भी फ़रक


दुल्हन ने कही सब मायके रो-रो और चीख-पुकार,

“देखो तो क्या हुई हालत मेरी इधर है”
मग़र मायके वालों ने हाथ जोड़कर कह दिया,

“बेटी! अब वही तुम्हारा घर है.”
--

टिप्पणियाँ

----------

10,000+ रचनाएँ. संपूर्ण सूची देखें.

अधिक दिखाएं

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

---

तकनीक व हास्य -व्यंग्य का संगम – पढ़ें : छींटे और बौछारें

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद/अनुसरण करें

परिचय

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com

अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

डाक का पता:

रचनाकार

रवि रतलामी

101, आदित्य एवेन्यू, भास्कर कॉलोनी, एयरपोर्ट रोड, भोपाल मप्र 462030 (भारत)

कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.

उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.


इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.