शनिवार, 25 जुलाई 2015

क़ैस जौनपुरी की हास्य-व्यंग्य कविता - नई-नवेली दुल्हन

qaisjaunpuri@gmail.com

कविता                                         

क़ैस जौनपुरी
नई-नवेली दुल्हन

नई-नवेली दुल्हन को घर में काम बहुत सा था
लेकिन उसका पति जो था पति के नाम पे धब्बा था


काम-धाम कुछ नहीं बस लुंगी पहन के रहता था
उसके बाप की पेंशन पे घर का खर्चा चलता था


सास-ससुर तो खुश थे निकम्मा बेटा सुधर जायेगा
किसे पता था बीवी पाकर और आलसी हो जायेगा


भैंस जैसी सास घर का सभी काम करवाती है
और उसके बाद अपने हाथ-पाँव दबवाती है


धूप में अपनी बहू से मालिश भी करवाती है
दुल्हन पहले सास-ससुर फिर पति के पाँव दबाती है


नई-नवेली दुल्हन घुट-घुट के सहती जाती है
दिन भर मेहनत के बाद थक-हार के सोने जाती है


फिर रात में उसका पतिदेव उसे सारी रात रुलाता है
जो दो ही मिनट में दुल्हन पे मेंढ़क सा मर जाता है


जो आदमी दिन में कुछ न करे उससे रात को क्या होगा
दुल्हन तो बेचारी सहम गयी अब उसका जाने क्या होगा


दुल्हन की पूरी ज़िन्दगी तो हो चुकी थी नरक
मग़र कसम से पड़ा नहीं किसी एक को भी फ़रक


दुल्हन ने कही सब मायके रो-रो और चीख-पुकार,

“देखो तो क्या हुई हालत मेरी इधर है”
मग़र मायके वालों ने हाथ जोड़कर कह दिया,

“बेटी! अब वही तुम्हारा घर है.”
--

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------