विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - रचनाकार में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com

मंजु महिमा की कविताएँ

image

मंजु महिमा

 

समझे हम आज़ादी को

आजादी नहीं सिखाती हमको,
सभी जगह मनमानी करना.
आज़ादी सिखाती है हमको,
सदैव अनुशासन में रहना.

आज़ादी नहीं सिखाती हमको,
मार-पीट,ईर्ष्या और झगड़ना,
आजादी सिखाती है हमको,
प्यार,मोहब्बत,हिलमिल रहना.

आज़ादी नहीं सिखाती हमको,
जहाँ चाहे कूड़ा-करकट फैलाना.
आजादी सिखाती है हमको,
दूर कर कूड़ा,स्वच्छता से रहना.

 


आज़ादी नहीं सिखाती हमको,
धरती माँ का शोषण करना,
आज़ादी सिखाती हमको,
धरती को खूब पल्लवित करना.

मन में पहले देशप्रेम जगाएँ,
और फिर गर्व से तिरंगा फहराएँ.
आओ पहले समझे आज़ादी को,
फिर आजादी का जश्न मनाएँ.

---

ए.पी.जे. कलाम को भावांजलि-

'मिसाइल मेन'!

मिसाल बनकर, 'मिसाइल मेन'!

आज तुम बेमिसाल बन गए.

मशाल की तरह जले सदैव,

आज तुम आफताब बन गए.

सागर से उठे अंतरिक्ष तक,

आज तुम पृथ्वी-पुत्र बन गए.

स्वप्न-द्रष्टा बन कर्मठ रहे,

आज तुम युगपुरुष बन गए.

सौ-सौ सलाम, कमाल के कलाम,

आज तुम हरदिल अज़ीज बन गए.

 

--

 

परिचय- मंजु महिमा
 
नाम : मंजु महिमा भटनागर.
जन्म : 30 जुलाई,  कोटा (राजस्थान)
शिक्षा : एम.ए. - उदयपुर विश्वविद्यालय, उदयपुर (राजस्थान); 
एम.फिल. (हिन्दी साहित्य) - गुजरात विश्वविद्यालय,अहमदाबाद
पत्रकारिता-सर्टिफिकेट कोर्स- पत्रकारिता महाविद्यालय, दिल्ली
प्रकाशन : काव्यसंग्रह– हिन्दी
(1) बोनसाई संवेदनाओं के सूरजमुखी(गुजरात का प्रथम नारी-विमर्श पर प्रकाशित संग्रह)
(2) शब्दों के देवदार
3) हथेलियों में सूरज (सद्य प्रकाशित )
शोध प्रबंध–प्रकाशित-
(1) संतकवि आनंदधन एवं उनकी पदावली
संपादन- जेसीस पत्रिका
सह-संपादन-हूमड़ जैन समाज का सांस्कृतिक इतिहास (२) राणी शक्ति
चुतर्थ शताब्दी विशेषांक (३)गुर्जर राष्ट्रवीणा के बाल-जगत का संपादन
अन्य काव्य-संग्रहों में प्रकाशित रचनाएँ : नई धरती-नया आकाश, पछुंआ
के हस्ताक्षर, गवाक्ष, एकता का संकल्प, जलते दीप, संवेदना के स्वर,शब्द-
पखेरू, स्वर्ण आभा-गुजरात,कविता अनवरत इत्यादि
लेख प्रकाशित- अभिनन्दन ग्रन्थ डॉ.रामकुमार गुप्त, आचार्य रघुनाथ भट्ट.
राजस्थानी भाषा- रचनाएँ प्रकाशित. ‘जागती जोत’ में-राजस्थानी साहित्य
अकादमी द्वारा प्रकाशित.
अनुवाद : विभिन पत्र-पत्रिकाओं में कविता, कहानी, नाटक एवं लेख, "आधुनिक
गुजराती एकांकी’ में आदिल मंसूरी द्वारा लिखित नाटक ’पेन्सिल की कब्र
और मोमबत्ती’, राजेन्द्र शाह की कुछ गुजराती कविताओं का हिन्दी
अनुवाद जो साहित्य अकादमी गुजरात द्वारा प्रकाशित पुस्तक में संकलित
हैं.

 


उपलब्धियाँ :
**युवा उत्कर्ष साहित्यिक मंच द्वारा गीत हेतु सर्वश्रेष्ट रचनाकार घोषित आयोजन -३० के अन्तर्गत-२०१५                                    
* अनहद काव्य उत्कृष्ट स्पर्धा में विशेष रूप से कृति सम्मान -२०१५
*लायनेस क्लब अहमदाबाद और ‘संगिनी आपकी हमसफ़र’ पत्रिका द्वारा सम्मानित-२०१३-१४
*द सन डे इंडिया द्वारा प्रकाशित भारत की मुख्य १११ लेखिकाओं की सूची
में नाम सम्मिलित (४ सित. २०११-सम्पादक अरिंदम चौधरी)
* हिन्दी साहित्य अकादमी गुजरात द्वारा श्रेष्ठ शोध-प्रबंध हेतु पुरस्कार
* रजत पदक - डॉ. काबरा काव्य स्पर्धा में प्रथम पुरस्कार-हिन्दी साहित्य
परिषद, अहमदाबाद.
*प्रथम पुरस्कार- डॉ.आर.सी.वर्मा ‘गौरव-पुरस्कार’: साहित्यलोक अहमदाबाद
द्वारा श्रेष्ठ कविता हेतु
*स्वर्णपदक-श्रेष्ठ एकाभिनय हेतु अन्तर्विश्वविद्यलय प्रतियोगिता, उदयपुर
सांस्कृतिक पुरस्कार - महाराणा भूपाल महाविद्यलय (उदयपुर)
* कर्णावती जूनियर चेम्बर, अहमदाबाद द्वारा योग्य कार्यकर्ता पुरस्कार
एवं ’कमलपत्र’ पुरस्कार से सम्मानित
*विभिन्न सामाजिक और साहित्यिक संस्थाओं द्वारा समय-समय पर
सम्मानित. *कवि-सम्मेलनों और काव्य-गोष्ठियों में प्राय: शिरकत.
*आकाशवाणी और दूरदर्शन से समय-समय पर रचनाएँ प्रसारित.
*विभिन्न राज्यों की साहित्य अकादमी पत्रिकाओं में भी रचनाएँ प्रकाशित,जैसे-मधुमती, कुतुबनुमा, अक्षरा आदि. सरिता, कादम्बिनी, मुक्ता, मेरी सहेली, बिंदिया,अभिनव इमरोज़  आदि पत्रिकाओं में भी रचनाएँ प्रकाशित.
*अन्तर्जाल के साहित्यिक समूहों जैसे इ-कविता, काव्यधारा, विचार विमर्श
आदि में सक्रिय, साहित्यिक नेट-पत्रिकाओं (अनुभूति,साहित्य-सृजन,हिन्दी
नेस्ट, काव्य-पल्लवन, नव्या,इंकलाब,हिन्दी चेतना, हिन्दी-गौरव, सृजनगाथा, साहित्य-कुंज, नव्या, विश्वा आदि) में रचनाएँ प्रकाशित
*सिंधी, राजस्थानी और गुजराती भाषा में कुछ रचनाओं का अनुवाद प्रकाशित .
सम्प्रति : ‘भाषा-शिक्षण निष्णात और सलाहकार’: एजुकेशन इनीशिएटिव संस्था के
माध्यम से पिछले 12 सालों से हिन्दी-शिक्षा में गुणवत्ता लाने के लिए
सक्रिय, हिन्दी अध्यापकों को प्रशिक्षण देकर, वर्कशॉप आदि लेकर हिन्दी
को रोचक माध्यमों से हिन्दी कैसे पढ़ाएं?, आधुनिक तकनीक का उपयोग
हिन्दी सिखाने के लिए कैसे करें? आदि की जानकारी प्रदान करना,
एनिमेशन के लिए पाठ्य-सामग्री तैयार करना,छात्रों के मूल्यांकन हेतु
कुशलता-लक्षी परीक्षा-पत्र तैय्यार करना आदि गतिविधियों में कार्यरत.
*लगभग20वर्षों का हिन्दी अध्यापन का विभिन्न शालाओं का अनुभव.
अभिरुचियाँ : लेखन, अध्ययन संगीत सुनना, हस्तकला, नवीन व्यंजन बनाना, यात्रा एवं
फोटोग्राफी
 
सम्पर्क : manjumahimab8@gmail.com

विषय:
रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु बेनामी टिप्पणियाँ बंद की गई हैं (आपको पंजीकृत उपयोगकर्ता होना आवश्यक है) तथा साथ ही टिप्पणियों का मॉडरेशन भी न चाहते हुए लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

[facebook][blogger]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget