रचनाकार

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका

आशीष निशि की रसोई से - केले के कटलेट

image

सामग्री:

4 कच्चे केले, उबाल कर छीले हुये, एक कटोरी हरे मटर, 1/3 कप आटा(मैदा), भूना जीरा, 2-3 हरी मिर्च (बारीक कटी हुई), लाल मिर्च पाउडर, काला नमक, नमक, ब्रैड का चूरा-कटलेट लपेटने के लिए तथा तेल तलने के लिए।

विधि:
एक बड़े कटोरे में केले, मटर व मैदा डालकर अच्छी तरह मसल लें। अब अन्य सभी मसाले डालकर आपस में मिला लें फिर इस मिश्रण से छोटे-छोटे आकार के गोले बना लें| फिर इन्हें हाथ की हथेली की मदद से चपटा करें और ब्रैड के चूरे में अच्छी तरह लपेट लें। अब एक कढाही में तेल डालें। तेल गर्म हो जाए तो इन कटलेट्स को धीमी आंच पर हल्का भूरा होने तक तलें।
आप चाहें तो तवे पर भी थोड़े तेल में सेंक कर टिक्की बना सकते हैं। एअर फ़्रायर में भी कम तेल मे सेंका जा सकता है। ग्रिल में भी कम तेल में सेंका जा सकता है।
मटर की जगह या साथ में गाजर या अन्य कोई सब्जी भी मिलाई जा सकती है

धनिये की चटनी के साथ भोग लगाएँ।

विषय:
रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget