शनिवार, 1 अगस्त 2015

चुनिन्दा आलमी शायरी

image

मौलाना रूमी

मेरी मसनवी को मात्र अक्षर न समझो

देखो तो पुराने अक्षर के जिस्म में

कैसी न नई रूह समाई हुई है!

*

जब कोई सुनने वाला नहीं है

तब खामोशी बेहतर है

नासमझ से अगर किसी बात का अन्त

छिपा लिया जाय तो बेहतर है।

*

अगर सुनने वाला प्यासा और बेचैन होता है

तो फिर सुनाने वाला भले ही कमजोर क्यों न हुआ हो

फिर भी उठकर बतियाने लगता है।

*

सिर्फ सुनी सुनाई बातें

बयान करने वाले की ज़बान पर

सौ दलीलें व सौ किस्से होंगे

पर उनमें कोई जान न होगी!

*

कहा-‘”कौन कहता है दुनिया में सूरज भी है”

तो सूरज खुद आकार सामने खड़ा हो गया

अब भी अगर तुम्हें सूरज के वजूद का सबूत चाहिये

तो सूरज की ओर देखो।

*

जो ज़्यादा सचेत है, वह ज्यादा विषादी है

जो ज्यादा अनभिज्ञ है, उसका चेहरा ज्यादा फीका है

*

इश्क का सदा बहार गुलशन

बहार व ख़िज़ाँ की क़ैद से आज़ाद है

खुशियों व ग़मों से बे-न्याज़ है

उसमें सदा मीठे फल मौजूद होते हैं!

*

खुदा की नज़र में किसी

दुखियारे की आँख से गिरा हुआ आँसू

शहीद के खून सा पाकीज़ है

*

आशिक़ी दुख और सुख से बुलंद है

वह बहार और ख़िज़ाँ के बगैर ही

सरसब्ज़ और सदा बहार है।

*

मेरा जिस्म यूं सोया रहता है

जैसे वह बिलकुल अकेला है

पर हक़ीक़त में उस वक़्त

मेरे दिल में आठ जन्नतें आबाद होती हैं।

*

मेरे भाई! तुम्हारी हस्ती

तुम्हारी सोच है

बाक़ी तो सब हड्डियाँ और मात्र गोश्त है।

*

ख्वाहिशें ज़रूर रखो, पर हद के भीतर

घास का तिनका

पहाड़ का बोझ नहीं उठा पाएगा!

*

ईंट और पत्थरों से बनी मस्जिद

तो फ़क़त ज़ाहिरी दिखावा है

असली मस्जिद और असली हक़ीक़त तो

दिल वाले की दिल है।

 

 

सिन्धी से हिन्दी अनुवाद: देवी नागरानी

--

image

Devi Nangrani
http://charagedil.wordpress.com/
http://sindhacademy.wordpress.com/

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------