अरूण कुमार झा की कविताएँ - समय साक्षी है

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

image

अरूण कुमार झा

1.    परिवर्तन करो समाज का, विकास के लिए देश का


समय साक्षी है
समय को समझो
समय के साथ चलो
अपने हठ को छोड़ो
परिवर्तन करो समाज का
निर्माण करो नये समाज का
विकास के लिए देश का


समय साक्षी है
समय को समझो
समय की भाषा को समझो
समय के इशारे को समझो
परिवर्तन करो समाज का
निर्माण करो नये समाज का
विकास के लिए देश का।


समय साक्षी है
हठ को छोड़ो
अंहकार को तोड़ो
समय को समझो
नहीं तो समय
तुम्हें नहीं छोड़ेगा
परिवर्तन करो समाज का
निर्माण करो नये समाज का
विकास के लिए देश का।


समय साक्षी है
समय को समझो
मन के कलुष को
मन में बैठे वैमनस्य को
सद्भाव के जल से धो लो
नहीं तो अपने ही
कलुष में एक दिन
विलीन हो जाओगे
परिवर्तन करो समाज का
निर्माण करो नये समाज का
विकास के लिए देश का।


समय साक्षी है
समय को समझो
देश ऐसे नहीं चलता
जैसे चलाना चाहते हो!
तुम्हारी दमित इच्छाओं की पूर्ति
के निमित्त देश नहीं चलता
परिवर्तन करो समाज का
निर्माण करो नये समाज का
विकास के लिए देश का।


समय साक्षी है
समय को समझो
आने वाले कल के साथ
न्याय करो
नयी पीढ़ी के जेहन में ईाहर
मत घोलो
परिवर्तन करो समाज का
निर्माण करो नये समाज का
विकास के लिए देश का।


समय साक्षी है
समय को समझो
समय के साथ न्याय करो
धनलोलुपता के मकड़जाल
को तोड़ो
नहीं तो एक दिन
टूट कर बिखर जाओगे
परिवर्तन करो समाज का
निर्माण करो नये समाज का
विकास के लिए देश का।


समय साक्षी है
समय को समझो
यहाँ कुछ भी स्थायी नहीं होता
कितने आये; चले गये
रह गया उनका यश
जो उन्होंने कमाया
परिवर्तन करो समाज का
निर्माण करो नये समाज का
विकास के लिए देश का।


समय साक्षी है
समय को समझो
तुम्हारा यहाँ कुछ नहीं है
एक भी गवाह नहीं है इसका
मरीचिका की उलझन से
बाहर आओ
परिवर्तन करो समाज का
निर्माण करो नये समाज का
विकास के लिए देश का।


समय साक्षी है
समय को समझो
दुबारा देह वही, प्राण वही
नहीं मिलते
नाम करो, कुछ काम करो
नहीं तो जो नाम है वह भी
गुम जायेगा
परिवर्तन करो समाज का
निर्माण करो नये समाज का
विकास के लिए देश का।

समय साक्षी है
समय को समझो
सत्य को परखो
कोई सत्य को आज तक
खोज नहीं पाया
भटकन छोड़
पथ न्याय का पकड़ो
परिवर्तन करो समाज का
निर्माण करो नये समाज का
देश के लिए विकास का।


समय साक्षी है
समय को समझो
अच्छे अन्त की चाह में
कितने पथिक अनन्त में खो गये
हर क्षण सुन्दर अवसर है
अच्छी शुरूआत का
उसे मत छोड़ो
परिवर्तन करो समाज का
निर्माण करो नये समाज का
विकास के लिए देश का।


 

 

 

2. लोकतंत्र के सौदागर
समय साक्षी है
समय किसी को नहीं छोड़ता।
समय को झुठलाने का हम
जितना भी प्रयास करें
वह धोखा ही होगा।
हमेशा हम धोखा खाते हैं
दूसरे को धोखा देते हैं।
धोखा देने के लिए
नाम तो कुछ भी हो सकता है-
लोकतंत्र, राजतंत्र, जनतंत्र,
लाठी तंत्र, धर्मतंत्र... आदि इत्यादि।

समय साक्षी है-
चलता तो लाठी तंत्र ही है।
मैं भी साठ साल से देख रहा हूँ।
आप भी अपनी उम्र और समय
को देख ही रहे हैं।
स्वतंत्रता के लिए, स्वाधीनता के लिए
कैसे-कैसे, किन-किन रूपों में
कितने वीर सपूतों ने अपनी जानें गवाँयीं
किसके लिए?
लाठी/बंदूक वालों के लिए?
रूप और रंग जो भी हों-
नाम कुछ भी हो सकता है उनका-
...सिंह ...यादव ...साव ...दास... राम ...गाँधी ...मिश्रा ...मंगरा ...बुधवा ...एतवा ...शुक्ला
...यादव ....राव ...मोदी ...अम्बानी।
ये सब-के-सब सियार, लोमड़ी,
गिद्ध ही तो हैं।

क्या करेंगे आप?
देखा नहीं आपने-
वीरों की वीरगति?
जिसने आजादी और लोकतंत्र के लिए
अपने प्राणों की आहुति दे दी।
देखा नहीं तो पढ़ा जरूर होगा
यदि पढ़ा भी नहीं तो सुना जरूर होगा
यदि सुना भी नहीं तो फिर अफसोस कैसा?
उसी का नतीजा तो है-
गिद्धों और लोमड़ियों के लोकतंत्र
में साँस लीजिये, डंडे खाइये, बंदी बनिये।

टमाटर की चोरी, बैंगन की चोरी,
कटहल की चोरी, भूख मिटाने के लिए
जूठे अन्न की चोरी, प्यास बुझाने के लिए
उनके बेकार बहते पानी की चोरी के जुर्म में
खूनी-भारतीय पुलिस एक्ट का
जुल्म सहिए और कुछ न बोलिए
बोलेंगे तो सरकारी काम में बाधा
डालने के जुर्म में क्या-क्या न सहने पडे़ंगे!
हो सकता है-
आतंकवादी और नक्सली भी
करार दिये जायेंगे।
इसलिए चुपचाप रहिए
लोकतंत्र है आजाद भारत का
संविधान जैसा कहता है वैसा करते रहिए।
आजादी के पूर्व की तरह हम जैसे
गुलामी में बसर करते थे
आगे भी करने को अभिशप्त हैं
करते रहिए।
यदि मुखर होंगे तो कुछ प्राप्त हो सकता है-
मृत्यु भी या उनकी जमात में शामिल होने की
सुनहरा राजकीय-शासकीय दावत
उड़ाने का अवसर भी।
इसके लिए आपको
अपने ईमान को बेचना पडे़गा
लेकिन मूल्य उनका होगा।

वीरों के पसीने और उनके
अरमानों के साथ धोखा
देने का साहस हो तो
यह लोकतंत्र आपके लिए सब कुछ
अनुकøल बना सकता है-
महँगी गाड़ी, हवाई सफर, बंगला और
मनोरंजन के लिए वह सब कुछ जो आप
सिनेमा में, अपनी कल्पनाओं में
देख कर अपनी इच्छाओं को
अबतक दबाते रहे हैं।

पहले सबकुछ देख-सुन कर
चुप रहना अनुशासन-पर्व माना जाता था-
अब तो कोई पर्व नहीं है
तब क्या करेंगे आप?

लोकतंत्र है, इसका आधार और जन्म
आपके ‘वोट’ की नींव पर खड़ा
और मजबूती से जड़ा है,
जड़ अंदर तक गहरा धंसा है।
क्या आप इसे उखाड़ पायेंगे?
यदि उखाड़ने का
कुछ अनुभव और माद्दा हो तो
आगे बढ़िये नहीं तो
ऐतिहासिक पानी के बुलबुले सरीखा
संपूर्ण क्रांति का बिगुल
तो फूंक दीजिए फिर देखिए
कितनी भेड़-बकरियाँ
आपके इस क्रांति-बिगुल
को कैसे-कैसे लेती हैं?
सिर्फ इतना ही करना है-
उन भेड़-बकरियों को विश्वास हो जाये कि
आने वाला समय उनका मूल्यांकन कर
आजीवन पेंशन-सुख देगा।

लोकधारा का दरिया वर्तमान
गंगा की तरह मैली
भले ही हो जाये, अपने बाप का क्या?
देश भाँड़ में जाये, अपने बाप का क्या?
सब कुछ तो बाजार के हवाले है अब।
‘वोट’ का बाजारवाद बड़ा ही पुख्ता है,
अब तो विदेशों में भी दिखता है।

आगे आप-हम सभी, बाजार के हवाले होंगे
सौदा करने में जो जितना माहिर होगा
‘वोट’ का मोल उतना ही तगड़ा होगा।
‘इवेंट’ प्रबंधन के तराजू पर
आप तौले जाँयेंगे, इनाम के साथ-साथ
और भी बहुत कुछ पायेंगे।
फिर आप भी खुश!
लोकतंत्र के सौदागर और
प्रबंधन भी खुश!


अरुण कुमार झा
प्रधान संपादक, दृष्टिपात हिंदी मासिक
wgmrak@gmail.com, drishtipathindi@gmail.com,

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

0 टिप्पणी "अरूण कुमार झा की कविताएँ - समय साक्षी है"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.