एक शराबी की सूक्तियाँ

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

कृष्ण कल्पित उर्फ कल्बे कबीर ने एक शराबी की सूक्तियां लिखकर साहित्य जगत में भरपूर वाहवाही पाई है. युवाओं ने खासकर इस कृति को हाथोंहाथ लिया है. सुनिए यह सूक्तियाँ स्वयं कृष्ण कल्पित के श्री-मुख से -

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

0 टिप्पणी "एक शराबी की सूक्तियाँ"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.