रचनाकार

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका

जनवादी लेखक संघ - 10 वें विश्व हिंदी सम्मलेन को हिंदी साहित्य और साहित्यकारों की छाया से क्यों दूर रखा गया?

image

बयान 

(13. 09. 2015) 

भोपाल में आयोजित दसवें विश्व हिंदी सम्मलेन को हिंदी साहित्य और साहित्यकारों की छाया से जिस तरह दूर रखा गया, वह कतई आश्चर्यजनक नहीं था. एक ऐसे समय में, जब केंद्र में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रत्यक्ष नियंत्रण में चलनेवाली सरकार क़ाबिज़ है, जब विवेक-विरोधी, दकियानूस ताक़तों के हौसले बुलंद हैं और आस्था के खिलाफ तर्क की बात करनेवालों पर कातिलाना हमले लगातार बढ़ रहे हैं, जब बाज़ार सम्बन्धी बुनियादपरस्ती और धार्मिक बुनियादपरस्ती कंधे से कंधा मिलाकर मानव-विरोधी विजय-अभियान पर निकल पड़ी हैं, ऐसे समय में हिंदी के साहित्यकार लगातार स्वतंत्र चिंतन, विवेक और प्रगतिशील-जनवादी मूल्यों के पक्ष में अपनी आवाज़ उठा रहे हैं. हिंदी साहित्य की दुनिया में भाजपा और आरएसएस की कारगुजारियां निरपवाद रूप से आलोचना के निशाने पर हैं. मोदी शासन की शुरुआत में उनके पक्ष में उठी इक्का-दुक्का आवाज़ों ने भी कभी का दम तोड़ दिया है. हिंदी के लेखक मोदी सरकार के झूठे वायदों और नारों की पोल खोल रहे हैं और आलोचनात्मक विवेक की सदियों पुरानी परम्परा से मज़बूती से जुड़े हैं. ऐसे में कुतर्कों के आधार पर भाषा और साहित्य के बीच अंतर बताते हुए हिंदी सम्मलेन को साहित्यकारों से दूर रखने का औचित्य प्रतिपादित करना केंद्र सरकार की मजबूरी थी. नरेंद्र मोदी से लेकर सुषमा स्वराज तक ने यही कुतर्क दुहराया और विदेश राज्यमंत्री वी के सिंह ने तो इस कुतर्क के साथ-साथ  साहित्यकारों पर सम्मेलनों में जाकर खाने और 'पीने' का अपमानजनक आरोप भी जड़ दिया।  इन कुतर्क-प्रेमियों ने एक बार भी यह स्पष्ट नहीं किया कि भाषा को सर्वाधिक रचनात्मक रूप में बरतने वाले साहित्यकारों का अगर भाषा के प्रचार-प्रसार के साथ कोई रिश्ता नहीं है तो उन राजनेताओं का कैसे है जो बड़ी संख्या में उदघाटन और समापन के अवसरों पर मंच की शोभा बढ़ा रहे थे!

विश्व हिंदी सम्मेलनों का जिस तरह से आयोजन होता रहा है, उसके कारण उनकी उपादेयता हमेशा से संदिग्ध रही है, पर इस बार का सम्मलेन तो इस सिलसिले को पूरी तरह से व्यर्थ का उपक्रम बना देने की दिशा में एक बड़ा क़दम था.

मुरली मनोहर प्रसाद सिंह (महासचिव)

संजीव कुमार (उप-महासचिव)

रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget