विनीत कुमार का लप्रेक पाठ - दरबदर दिल्ली - इश्क में शहर होना

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

रवीश कुमार के बेहद सफल लप्रेक संस्करण के बाद विनीत कुमार का लप्रेक संग्रह जल्द ही लोकार्पित होने वाला है. इस बीच, क्यों न हम उनके ही श्रीमुख से, उनकी मखमली आवाज़ से, कुछ लप्रेक सुन लें -

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

0 टिप्पणी "विनीत कुमार का लप्रेक पाठ - दरबदर दिल्ली - इश्क में शहर होना"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.