आलेख || कविता ||  कहानी ||  हास्य-व्यंग्य ||  लघुकथा || संस्मरण ||   बाल कथा || उपन्यास || 10,000+ उत्कृष्ट रचनाएँ. 1,000+ लेखक. प्रकाशनार्थ रचनाओं का  rachanakar@gmail.com पर स्वागत है

हास्य - व्यंग्य : कविताई में सफल होने के लिए खास आपके लिए अभ्यास कविता

अभ्यास कविता

- कुबेर

यदि आप कविता लिखते हैं या कविता लिखने में रूचि रखते हैं और आपको लगता हैं कि इस क्षेत्र में आपको वांक्षित सफलता नहीं मिल पा रही है तो निराश मत होइये। इसके लिए कुछ एक्सरसाइज अर्थात अभ्यास की आवश्यकता है। अभ्यास के लिए हमने कुछ नये और चमत्कारिक विधियों की या तकनीक की खोज की है। जमाना नये-नये तकनीकों की है। इस नये तकनीक के साथ आइये कुछ एक्सरसाइज करें। नीचे दी गयी कविता को पढ़ें -


वह सोचता है कि वह सोच रहा था
वह सोचता है कि वह सोच रहा है
वह सोचता है कि वह सोचता रहेगा
वह सोचता है कि वह सोचता है

मैं सोचता हूँ
सोचने के इस युग में, कोई तो है
जिसे गुमान है कि वह सोचता है


0
यह एक अभ्यास कविता है। अभ्यास को अंग्रेजी में एक्सरसाइज कहते हैं। अब आप समझ गये होंगे कि अभ्यास कविता का आविष्कार और विकास कविता कर्म की बारीकियों को सम्यक रूप से समझने के लिए किया गया है। दरअसल इस कविता के मूल प्रारूप में मोटे रेखांकित शब्दों (वह तथा सोच, जो क्रमशः कर्ता और क्रिया शब्द हैं।) की जगह खाली स्थान है।


अब अइये! इस प्रारूप के साथ कुछ एक्सरसाइज करें। आप इस प्रारूप में पहले खाली स्थान जहाँ अभी 'वह' कर्ता विराजमान हैं, को यथावत रहने दें। दूसरे खाली स्थान में, जहाँ अभी 'सोच' क्रिया विराजित है, की जगह कोई अन्य क्रिया बिठा दें, जैसे - 'देख', तो एक अलग कविता तैयार हो जायेगी। यदि आपके पास सौ क्रियाएँ हैं तो समझ लीजिए, आपने सौ कविताएँ तैयार कर लीं।
आपके पास क्रियाओं की कोई कमी नहीं हैं। बहुत सारी क्रियाओं को दिन में आप कई-कई बार दुहराते होंगे। कहना, बोलना, सुनना, सूंघना, चलना-फिरना, उठना-बैठना, दौड़ना-भागना, मारना-पीटना, लड़ना-झगड़ना, जलना, जलाना, खिलना, मुरझाना, हँसना, हँसाना, रोना, रुलाना, लूटना, ठगना, हड़पना आदि ऐसी ही क्रियाएँ हैं। पर ठहरिये, आपकों अभी यहाँ पर रुकना नहीं है। अभी 'वह' कर्ता का खाना, पीना, हजमना, सोना, जगना, मूतना और फिर अंत में शौचना जैसी अति महत्वपूर्ण क्रियाएँ बाकी हैं। इस तरह 'सोचने' क्रिया से शुरू करके 'शौचने' क्रिया तक 'वह' कर्ता के साथ आप जितनी चाहें, कविता बना सकते हैं।


अलग-अलग क्रियाओं का प्रयोग करके 'वह' कर्ता के साथ अब तक हमने कम से कम सौ कविताएँ तो तैयार कर ली है। अभ्यास के दूसरे चरण में अब आपका पैटर्न बदल जायेगा। अब आप पहले वाले खाली स्थान, जहाँ अभी 'वह' कर्ता विराजित है, की जगह कोई अन्य कर्ता जैसे 'यह' बिठा दीजिए। लीजिए सौ कविताएँ फिर तैयार हो गईं। कर्ताओं की क्या कमी है? यह, वह, के बाद तुम, हम, राम, श्याम, कृष्ण, कन्हैया, गोपाल, विशाल, फिर नेता, मंत्री, संत्री, कंत्री, यंत्री और फिर व्यापारी, अधिकारी, कर्मचारी, चपरासी, भ्रष्टाचारी, दुराचारी, अत्याचारी को कर्ता की जगह पर एक-एक कर बिठाते जाइये और प्रत्येक कर्ता के साथ सौ-सौ कविताएँ तैयार कर लीजिए।


ध्यान रहे, प्रत्येक कर्ता के साथ कविता की शुरुआत 'सोचने' क्रिया के साथ और अंत 'शौचने' क्रिया के साथ ही होना चाहिए।
पिछली रात (एक ही रात में) मैंने इस अभ्यास कविता के साथ लगभग सात सौ कविताओं का एक संग्रह तैयार कर लिया। संग्रह को देख-देखकर बड़ा गर्व हुआ। मन-मयूर नाचने लगा, कहा - 'वाह! साला मैं तो कवि बन गया'।


सुबह होने पर मैंने देखा, कविताएँ तो हैं पर इनमें विचार कहीं नहीं है। विचारहीन इन कविताओं को मैं क्या कहूँ? कविता कहूँ?
000

टिप्पणियाँ

----------

10,000+ रचनाएँ. संपूर्ण सूची देखें.

अधिक दिखाएं

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

---

तकनीक व हास्य -व्यंग्य का संगम – पढ़ें : छींटे और बौछारें

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद/अनुसरण करें

परिचय

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com

अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

डाक का पता:

रचनाकार

रवि रतलामी

101, आदित्य एवेन्यू, भास्कर कॉलोनी, एयरपोर्ट रोड, भोपाल मप्र 462030 (भारत)

कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.

उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.


इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.