आलेख || कविता ||  कहानी ||  हास्य-व्यंग्य ||  लघुकथा || संस्मरण ||   बाल कथा || उपन्यास || 10,000+ उत्कृष्ट रचनाएँ. 1,000+ लेखक. प्रकाशनार्थ रचनाओं का  rachanakar@gmail.com पर स्वागत है

हास्य-व्यंग्य : प्रगति

image

-हरिशंकर गजानंद प्रासाद देवांगन

बहुत पहले की बात है। आदमी और कुत्ते के बीच, ताकतवार सिद्ध होने की प्रतियोगिता शुरू हुई। एक दिन, कुत्ते ने आदमी को काट लिया। आदमी मर गया। पूरे क्षेत्र में सनसनी फैल गयी। कुत्ते ने, ताकत की पहली जंग जीत ली।

कुछ अरसे बाद, कुत्ता फिर भिड़ गया आदमी से। आदमी भी मारा गया, कुत्ता भी। पूरा देश, आदमी की प्रगति से खुश हुआ – आदमी और कुत्ते की बराबरी सुनकर। इसी दिन से, आदमी को कभी कभी कुत्ता कहा जाने लगा।

एक दिन बहुत जश्न मनाते हुए देखा गया लोगों को। पता लगा कि कुत्ते ने आदमी को काट दिया, और कुत्ता मर गया। इतनी प्रगति को मनुष्य ने, उत्सव के रूप में मनाया। यह वो समय था, जब कुत्ते को, मनुष्य की चाकरी करने के लिए, मजबूर होना पड़ा।

समय गुजरता रहा, प्रगति होती रही। अब कुत्ता भी, डरने लगा था, आदमियों से। एक बार जीत का स्वाद चख चुका मनुष्य, कुत्ते से भिड़ने की जुगत में रहता था हमेशा। वह दिन भी आ गया। परेशान कुत्ते ने, आखिर एक इंसान को काट ही लिया। पर यह क्या ? न कुत्ता मरा, न आदमी। पूरी दुनिया में, खलबली मच गयी। मनुष्य की प्रगति पर प्रश्नचिन्ह लग गया। वैज्ञानिकों के लिए, शोध का विषय हो गया यह। उनका दावा था, या तो काटने वाला जीव कुत्ता नहीं होगा, या उससे भिड़ने वाला, आदमी नहीं होगा। क्योंकि मनुष्य को काटने वाला कोई भी जीव, जिंदा रह ही नहीं सकता।

इसी समय पहली बार मनुष्य और कुत्ते की दोस्ती हुई, अब कुत्ते और आदमी, एक ही बिस्तर में सोने लगे। अब कुत्ता, पैरों के नीचे से, सीधे गोद में पहुंच गया। प्रतियोगिता आज भी चल रही है, पर यह सिर्फ दोस्ताना है, इसमें कभी आदमी जीतता है कभी कुत्ता। सोचने पर विवश हैं लोग, यह कैसी प्रगति ?

हरिशंकर गजानंद प्रासाद देवांगन, छुरा

टिप्पणियाँ

----------

10,000+ रचनाएँ. संपूर्ण सूची देखें.

अधिक दिखाएं

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

---

तकनीक व हास्य -व्यंग्य का संगम – पढ़ें : छींटे और बौछारें

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद/अनुसरण करें

परिचय

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com

अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

डाक का पता:

रचनाकार

रवि रतलामी

101, आदित्य एवेन्यू, भास्कर कॉलोनी, एयरपोर्ट रोड, भोपाल मप्र 462030 (भारत)

कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.

उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.


इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.