विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - रचनाकार में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com

कविवर श्रीकांत त्रिपाठी की दो रचनाएँ

image
 
दीपशिखा सा सिहर सिहर कर ……

दीपशिखा सा सिहर सिहर कर
आज सुलगता है मन मेरा |
परमिति पर निर्मल प्रकाश, पर-
अंतर में है गहन अन्धेरा |

मृगतृष्णा की धूप छाँव में,
बीत गयी मेरी तरुणाई |
बिखर गयी सपनों की दुनिया
आशा की कलियाँ मुरझाईं |

स्वाती की बूंदों का कब से,
प्यासा है चातक मन मेरा | ....दीपशिखा सा ...

हाय दुरंगे व्यक्तित्वों ने
मुझको नहीं कहीं का छोड़ा |
झटक नेह का दामन मुझसे
अपनों ने अपना मुंह मोड़ा |

मैं हूँ ऐसा उपवन जिसका
माली ही बन गया लुटेरा |  ...दीपशिखा सा...

सघन निराशा की बदली से
मात्र व्यथा की बूँद टपकती |
कुंठाओं के ध्वस्त नगर में,
सहमी सी आत्मा भटकती |

आशा के बंधन से बंधकर
ठहर गया है जीवन मेरा |...दीपशिखा सा ...

मेरे जीवन की साँसों में
विधि को यदि पीड़ा भरनी थी |
संवेदनमय उर के बदले
पत्थर की रचना करनी थी |

पतझर के पातों सा हर पल
क्यों भटका करता मन मेरा |  ..दीपशिखा सा...

किसे सुनाऊँ व्यथा ह्रदय की,
सुनने वाला आज कौन है |
मुझसे मेरी प्रतिध्वनियों से-
ऊब, विज़न भी आज मौन है |

क्रूर प्रकृति ने अपने हाथों
बीथी में व्यवधान बिखेरा |   ...दीपशिखा सा....

ऊंचे ऊंचे इन महलों तक,
सीमित ही रह गया है वैभव |
ठिठुर रही ज़र्ज़र अभिलाषा ,
रहा सिसकता भूखा कौशल |

ये हैं इस युग के निर्माता,
इन के बल पर चले सवेरा |  ..दीपशिखा सा....

छेड़ो मत सोये तारों को ,
विफर उठेंगे साँसों के स्वर |
चिर पीड़ित जग के संत्रासित
डस लेंगे भावों के विषधर |

लावा बनकर उबल पडेगा,
ज्वालामुखी बना उर मेरा |  ...दीपशिखा सा...

तुमने शूलों की पीड़ा दी
आँचल में भी शूल सजाये |
सुहृद तुम्हारे उपकारों के
बदले में कुछ दे न पाए |

मेरा सब सुख तुम्हें समर्पित,
दर्द तुम्हारा है अब मेरा |  ...दीपशिखा सा ..||

 

-------------.

    तुम्हारी सौगात
हमने इस उम्र की रग रग में सजाये कांटे ,
इसकी शाखों में कोइ फूल नहीं पात नहीं |
सिर्फ गुजरे हुए लम्हों की चन्द यादें हैं ,
सर्द आहों के सिवा कोइ भी ज़ज्वात नहीं |

कुछ कदम राह में हम साथ चलेंगे तेरे
इसी उम्मीद में छोड़ा था हंसते सावन को |
न मिला प्यार तेरा चाह तेरी साथ तेरा ,
चैन से काटी हो ऐसी कोइ रात नहीं |

टीस उठती है जब, बजती है कहीं शहनाई,
देखता रहता हूँ ख्यालों में सजी दुल्हन को |
आज तक याद हैं भूले नहीं वादे तेरे ,
दिल बहल जाता, ऐसी तो कोइ बात नहीं | 

बहुत करीब से देखा है मैंने हर शह को,
तुम से हो और हसीं, ऐसी कोइ मात नहीं |
सूनी आँखों में जो तडपे हैं निकल जाने को,
सूखे आंसू के सिवा कोइ भी सौगात नहीं ||

                   ---- श्री कान्त त्रिपाठी

विषय:
रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु बेनामी टिप्पणियाँ बंद की गई हैं (आपको पंजीकृत उपयोगकर्ता होना आवश्यक है) तथा साथ ही टिप्पणियों का मॉडरेशन भी न चाहते हुए लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

[facebook][blogger]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget