विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - रचनाकार में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com

हिंदी दिवस की कविताएँ

 

ओम प्रकाश शर्मा

 

हिन्दी का प्रयोग करें

हिन्दी का प्रयोग करें हम देश का मान बढ़ाएँ,
भाषा को उसका विश्व में उचित स्थान दिलाएँ
संस्कृत की वंशज है यह संस्कारों की है भाषा
स्वयं करें अन्यों से भी हम इसमें काम कराएँ।

भाषा रोचक अतिविशाल इसका शब्द भंडार,
संस्कृत पाली प्राकृत से पोषित ज्ञान संसार,
सत्रह बोलियों से घनिष्ठ जुड़ा है इसका नाता,
खड़ीबोली का रूप नया अब हिन्दी कहलाता।

बावन वर्ण वर्णमाला के इसमें सिखलाए जाते,
स्वर व्यंजन अन्तस्थ ऊष्म इसमें ही हैं आते,
चार संयुक्त व्यंजनों को अब इसमें जोड़ा जाता,
वर्णों का क्रम सरल सुगम हम सबके मन भाताI

तत्सम तद्भव देशी विदेशी शब्द इसने अपनाए,
पर्यायवाची मिल जाते इसमे हमें तो मन भाए,
नियमों की भाषा यह कठिनाई कोई न आती,
वर्तनी सरल सीखने पर कदापि भूल न पाती।

संस्कृत साहित्य का मिलता इसमें अनुवाद,
गद्य पद्य दोनों में मिलता साहित्यास्वाद,
संस्कारों की भाषा है नैतिकता है सिखलाती,
पाठकों को नित नूतन ज्ञान उपलब्ध करातीI

आओ हम सब इसे नित्य व्यवहार में लाएँ
स्वयं प्रयोग करें तथा अन्यों से भी करवाएँ,
हम भारत के वासी बनता यह फर्ज हमारा,
राजभाषा पद पर हमने ही इसको स्वीकाराI

                                       

----------

 

बात करनी चाहिए                                                                                                                   

--------------------
हिन्दी भाषा में ही परस्पर बात करनी चाहिए
अपने संस्कारों की शिक्षा हमको मिलनी चाहिए।
-
परिचय उससे होता हमारा घर में व बाहर सदा
हृदय में आदर की जगह उसे तो मिलनी चाहिए। 
-
विदेश में पहचान उसकी निरंतर बढ़ती जा रही,
अपनों के ओंठों पर वह निरंतर थिरकनी चाहिए।
-
पुरातन परंपरा इसकी अथाह ज्ञान भंडार है
धरोहर पीढ़ी दर पीढ़ी सदा ही मिलनी चाहिए।
-
बोलना लिखना सुगम वर्णमाला भी आसान है
विद्यालयों में भी इसे तरजीह मिलनी चाहिए।
-
देश की भाषा हमारी राजभाषा भी  हमारी यह
इसको सिंहासन इसका अपना अब मिलना चाहिए। 
-
आकर आगत और देशज शब्दों की संख्या बहुत
इजाजत नव शब्द मिलाने की भी मिलनी चाहिए।  

प्रकाश’ मातृभाषाओं को सदा जोड़ती परस्पर यह
बात इसमें ही घर पर हम सभी को करनी चाहिए।

------------


राजभाषा हिन्दी                                                                                                                       

-------------------                                                                                                                                                       
देश की सीमाओं को लांघ कर,
विदेश में पा रही पहचान है
यदि स्वयं नहीं इससे सब जुड़े
कहो  किस बात का गुमान है।

हिन्दी हैं हिन्दी ही पहचान है
भारतीयता की सभी जान लें
सीखना सिखाना सर्वप्रथम इसे
सभी कर्त्तव्य अपना मान लें।

हमारी संस्कृति का है कोष यह
सीख मिलती रहे इससे सदा।
इतिहास गौरव का इसमें भरा
प्रेरणा देता हमें वह यदाकदा ।

संस्कृत की वंशज सब जानते,  
वेदों का भरा इसमें तो सार है
दर्शन उपनिषद की व्याख्याएँ
ग्रंथ गीता से हमें तो प्यार है।

अपनी भाषा में बोध ज्ञान का
सरलता से प्राप्त हो जाए सदा
बोझ बनता नहीं मस्तिष्क पर
प्रयोग करके देख ले सब सर्वदा ।
इसे सीख सीख सकते अनेक
विश्व की भाषाएँ हम सदैव।
जानना चाहिए उन्हें भी हमें
सीखिए आप भी अवश्यमेव ।    

जान लें अपनी संस्कृति पूर्व में,
सभी संस्कृतियों का जो सार है,
आए सभी को तो हिन्दी अवश्य
निज राष्ट्र से जिनको  प्यार है।  
--------

ओम प्रकाश शर्मा हिंदी दिवस की कविताएँ

ओम प्रकाश शर्मा 

एक ओंकार निवास ।

छोटा शिमला -171002 

विषय:
रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु बेनामी टिप्पणियाँ बंद की गई हैं (आपको पंजीकृत उपयोगकर्ता होना आवश्यक है) तथा साथ ही टिप्पणियों का मॉडरेशन भी न चाहते हुए लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

[facebook][blogger]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget