हिंदी दिवस विशेष हाइकु

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

 

शशांक मिश्र भारती 

 
एक-
स्वभाषा गिरा
आंग्ल को प्रतिष्ठा दी,
अपनों ने ही


दो-
पराजय है
मोह में अंग्रेजी से,
आज हिन्दी की।


तीन-
भाषा चिन्तक
जुबान उधार की,
बजाते गाल।   


चार-
बुधुआ घर
आके भारत सोता,
इण्डिया नहीं।


पांच-
सूर्य निकला
समय से पहले,
आंखें ही नहीं।


छः-
सामाजिकता
गिट-पिट करना,
अन्धानुकरण।


सात-
पराये गये
केंचुलियां पहने,
अपने लोग।


आठ-
बयान बाज
बोलरहे कुछ भी
दिन उनका।

--

   image    
शशांक मिश्र भारती

संपादक - देवसुधा, हिन्दी सदन बड़ागांव

शाहजहांपुर - 242401 उ.प्र.

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

0 टिप्पणी "हिंदी दिवस विशेष हाइकु"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.