रविवार, 13 सितंबर 2015

हिंदी दिवस विशेष हाइकु

 

शशांक मिश्र भारती 

 
एक-
स्वभाषा गिरा
आंग्ल को प्रतिष्ठा दी,
अपनों ने ही


दो-
पराजय है
मोह में अंग्रेजी से,
आज हिन्दी की।


तीन-
भाषा चिन्तक
जुबान उधार की,
बजाते गाल।   


चार-
बुधुआ घर
आके भारत सोता,
इण्डिया नहीं।


पांच-
सूर्य निकला
समय से पहले,
आंखें ही नहीं।


छः-
सामाजिकता
गिट-पिट करना,
अन्धानुकरण।


सात-
पराये गये
केंचुलियां पहने,
अपने लोग।


आठ-
बयान बाज
बोलरहे कुछ भी
दिन उनका।

--

   image    
शशांक मिश्र भारती

संपादक - देवसुधा, हिन्दी सदन बड़ागांव

शाहजहांपुर - 242401 उ.प्र.

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------