रचनाकार

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका

श्री गणेश जी की नई आरती

 

                   

(भक्तों-अभक्तों में, अंधन को आँख देत कोढ़िन को काया... आरती बहुधा उपहासात्मक टीका-टिप्पणियों का पर्याय बनती है. प्रस्तुत है नई, मौलिक आरती, जिसे प्रस्तुत कर रहे हैं ‘‘सनातन’’ कैलाश यादव .)
                     

श्री गणेशाय नमः
हर हाल गजानन साथ मेरे..........

हर हाल गजानन साथ मेरे...
हर दुःख का निवारण हाथ तेरे।


    हर युग में सदा, हर काल सदा...
    कण-कण शुभता का भाव भरे...
      हर हाल गजानन साथ मेरे...
      हर दुःख का निवारण हाथ तेरे।।


जनम के पाप मेरे,
तू सदकरमों से दूर करे।
   जन्मों का बिगड़ा भाग्य मेरा,
   तू पल भर में सौभाग्य भरे...
      हर हाल गजानन साथ मेरे...
      हर दुःख का निवारण हाथ तेरे।।


हे गणनायक, सिद्धविनायक,
मेरे सब संताप हरे।
  भक्ति-भाव भर मेरे अंतर...
  मन का तम, पलभर में हरे।
     हर हाल गजानन साथ मेरे...
     हर दुःख का निवारण हाथ तेरे।।


गौरी-पुत्र के संग शारदा,
माँ कमला भी साथ रहे।
  शिवशक्ति वरदान है तुझको,
  जग का सदा कल्याण करे...
   हर हाल गजानन साथ मेरे...
   हर दुःख का निवारण हाथ तेरे।।


तुझको आज मनाते भगवन्,
हम-सब तेरे द्वार खड़े।
  दर्शन दे दे आज गजानन,
  तू ही अब कल्याण करे...
     हर हाल गजानन साथ मेरे...
     हर दुःख का निवारण हाथ तेरे।।
 

                                        ‘‘सनातन’’ कैलाश यादव

विषय:
रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget