कामिनी कामायनी की 5 ताज़ा ग़ज़लें

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

image

   1

आसमां कहने लगा है ,….

आसमां कहने लगा है ,रात है

छोड़ो सब ,बस ,कल सुबह की बात है

 

क्यों अँधेरों से डरे हो  इस कदर ,

वो दरकता अब फ़लक पर रात है ।

 

सब पुरानी ,सब ,गई ,बीती रही ,

क्या करें कुछ भी कहाँ नई बात है ।

 

हम तो समझे थे वहाँ मुजरिम है एक ,

पर नहीं ,सारा ही कुनबा साथ है ।

 

अब भला अकुलाएगा मन क्यों तेरा ,

आशियाना जब तुम्हारे पास है ।

 

  2

मेरी जिंदगी ,मेरी जुस्तजू ,मेरी आबरू आ रु बरु ,

मैं माँगू क्या नसीब से ,कुछ सूझता नहीं और है ।

 

हम चले कहाँ ?बहके कदम ,ठिठकी नज़र ,उखड़ी हवा

हर गाँव शहर परख लिया चाहा नहीं कहीं ठौर है ।

 

वो कारवां जो गुजर रहा जाएगा दरिया पार जब

जो लोग इंतज़ार में,पददलित नहीं ,सिर मौर हैं ।

 

तौलोगे क्या ? टूटी तुला ,सौदागर भी कुछ मौन है ,

सहते चलो ,खुद मौज़ में ,बदला हुआ ये दौर है ।

 

बदली है जब से अपनी नज़र ,अपना ख़याल अपना सफर

कुछ भी सिफ़र लगता नहीं ,सांवला भी गौर है ।

 

3

क्यों फरियाद करते हो ,क्यों दरियाफ्त करते हो

मुकम्मल तुम कितने हो ये तुम जाने ,खुदा जाने ।

 

संभल जाओ यहाँ का दौर दामन दाग करता है ,

जो चमके दिखते साहिल पर , हजारों उनके अफसाने ।

 

कहावत लोग कहते है ,सच हर पल अकेला है ,

मगर झूठों के सौ राहें ,क़ातिल हजार परवाने  ।

 

हवा गुमसुम सी रहती है ,सदा नजदीक पेड़ों के ,

सुनाती है बगावत की ,बनाती गुलशन  को वीराने ।

 

बड़े अचरज में रहते हैं ,जिन्हें किस्से बनाने हैं ,

है तन्हा रात दिन उनका ,कहते हैं लोग दीवाने ।

 

4

वो अजनबी, मगर  तन्हा ,मुझे रुला क्यों गया ,

हमारे दिल का कोई तार सा हिला के गया ।

 

बहुत पुकारा मगर खो गई थी मेरी सदा ,

एक अल्फ़ाज़ भी ,न होठ को हिला के गया ।

 

कहूँ तो किससे कहूँ ,कैसे इस वीराने में,

हज़ारों फूल कोई ,पुरसुकून ,खिला के गया ।

 

अभी भी गूँजती है झिलमिलाती चाँदनी में यहाँ ,

वो वादियों की हवा  जो वो खिलखिला के गया ।

 

मुड़ा तो उसने भी था ,जिस मोड का सहारा लेकर,

जगह को छुआ था ,उसे  अपने में  मिला के गया ।

 

5

वो एक सख्स मेरा चैन लूट जाएगा ,

दुबारा फिर से मुझे मीत भी बनाएगा ।

 

वो सरफरोश है ,जालिम है ,या है ,दीवाना ,

खुद अपने मुंह से जमाने को ही बताएगा ।

 

किसी कि बात पर इतना ही उलझना मत दिल ,

घड़ी घड़ी मे कितना चेहरा बदल जाएगा ।

 

पुकारतीं हैं सदाएँ जो नाम , साहिल को ,

वो खुद बख़ुद कहीं सागर पे उभर आयेगा ।

 

जो भूल कर भी याद करता नहीं धरती को ,

वो बादल ही  इसके प्यास को मिटाएगा ।

---

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

0 टिप्पणी "कामिनी कामायनी की 5 ताज़ा ग़ज़लें"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.