बजरंग जी, दिल्ली का कविता पाठ - हाजिरी

बजरंग विशोई (विशोई थोड़ा अस्पष्ट है, बजरंग जी से आग्रह है कि कृपया टिप्पणी बॉक्स में दर्ज करें कि क्या यह सही उच्चारण है) , दिल्ली का कविता पाठ नीचे यूट्यूब बक्से में प्ले बटन पर चटका लगाकर सुनें.

इसे फ़ोन करें, अपना रचना पाठ रेकॉर्ड कर प्रकाशित करें के सरल प्रकल्प के तहत प्रकाशित किया गया है.

आने वाला समय दृश्य-श्रव्य माध्यमों का होगा, और अपनी स्वयं की आवाज में अपना रचना पाठ प्रकाशित करने का अलग आनंद है.

आप भी अपना रचना पाठ इसी तरह से प्रकाशित कर सकते हैं. अधिक जानकारी के लिए यह कड़ी देखें.

टिप्पणियाँ

----------

10,000+ रचनाएँ. संपूर्ण सूची देखें.

अधिक दिखाएं

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

---

तकनीक व हास्य -व्यंग्य का संगम – पढ़ें : छींटे और बौछारें

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद/अनुसरण करें

परिचय

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com

अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

डाक का पता:

रचनाकार

रवि रतलामी

101, आदित्य एवेन्यू, भास्कर कॉलोनी, एयरपोर्ट रोड, भोपाल मप्र 462030 (भारत)

कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.

उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.


इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.