विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - रचनाकार में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com

चन्द्रलेखा की कविताएं

कविताएँ  

1.  बरस रहा है मेघ ...

 आसमान का चूल्हा ये

जलता नहीं है आज क्यों ?

इसे भी मंहगाई ने

बुझा दिया है क्या ?

 

सदियों से चल रहा इन्सान

पहुंचा नहीं क्यों मंजिल तक?

उसे भी किसी ने पता

गलत दिया है क्या?

 

खिड़की से बाहर चुपचाप

बरस रहा है देखो मेघ

अपनी रचना की दुर्गति में

ईश बहाता है अश्रु क्या 

 

 

    ----------------------

 

2. बहुत अच्छा है 


 प्रेमदयात्याग,बलिदान 
सौन्दर्य और  ममता की,

मूर्ति ही समझा गया उसे

निश्चित रूपरंग औ’ गुणाकार की

सिर्फ मूर्ति  समझा गया 
अच्छा है...   बहुत अच्छा है...

इस बहाने उसे

पूज तो लिया जाता 

कम से कम  

झुक जाते सर ,कभी न झुकने वाले 
उसी मूरत के सम्मुख 
अच्छा है 
बहुत अच्छा है 
सिर्फ मूर्ति  ही समझा गया, और

मूर्ति में शब्द नहीं होते

भावनाएँ उसमें नहीं होतीं

ये तो पाई जातीं उनमें

रचा जिन्हें ईश्वर ने

ईश्वर की उसी रचना ने 

 

मूर्ति को गढ़ा है जिसे वह 

निहारतासहलाता,सराहता,सजाता है

 दुलारकर,खेलता 

यहाँ-वहाँ रख देता है

जब-तब खोलता, फिर-फिर  ढांपता है 

मोहित हो कर भोगता 

और पशु-सा उसे फिर 

नोचता और खसोटता है

जी उब जाता उसका जब 

झट तोड़ एक नई मूर्ति

वह फिर से गढ़ लेता है

 

इन्सान से  पशु बनते

देर नहीं लगती जब 

औरत का मूरत ही बने रहना

अच्छा है  … बहुत अच्छा है...

 

 

 -------------------------

 

 

    @ चंद्रलेखा 

 

विषय:
रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु बेनामी टिप्पणियाँ बंद की गई हैं (आपको पंजीकृत उपयोगकर्ता होना आवश्यक है) तथा साथ ही टिप्पणियों का मॉडरेशन भी न चाहते हुए लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

[facebook][blogger]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget