आलेख || कविता ||  कहानी ||  हास्य-व्यंग्य ||  लघुकथा || संस्मरण ||   बाल कथा || उपन्यास || 10,000+ उत्कृष्ट रचनाएँ. 1,000+ लेखक. प्रकाशनार्थ रचनाओं का  rachanakar@gmail.com पर स्वागत है

कामिनी कामायनी का यात्रा संस्मरण - लिचेंस्टीन : खिलौने जैसा ,पहाड़ी किस्से कहानियों वाला यूरोपीय देश

लिचेंस्टीन ।

यह एक छोटा सा,खिलौने जैसा ,पहाड़ी किस्से कहानियों वाला  यूरोपीय देश है ,जो आस्ट्रिया और स्विट्जरलैंड के बीच में अवस्थित है {पश्चिम और दक्षिण में स्विट्जरलैंड और पूर्व एवं उत्तर में आस्ट्रिया }। इसका क्षेत्रफल मात्र 160 स्क्वायर किलो मीटर है

।यहाँ का  बेरोजगारी दर विश्व के सबसे कम देशों में शामिल है {मात्र 1.5%}

यह अलपाईन  देश मुख्य रुप से पहाड़ी भूमि है ।मगर खेती करने लायक समतल भूमि भी मौजूद है ।  यहाँ शीत  कालीन विभिन्न खेलों का आयोजन होता रहता है।

स्विट्जरलैंड और इसका करेंसी एक ही है ।यहाँ जर्मन के अतिरिक्त अन्य भाषाएँ भी बोली जाती हैं ,बहुमत रोमन कैथोलिक धर्म का है ।

यह एक प्राचीन देश रहा है ।यहाँ पाषाण युग से लोगों के निवास करने का प्रमाण है ।अपने आस पास के देशों की सभ्यता और संस्कृति का प्रभाव होते हुए भी इसने अपनी अलग पहचान कायम रखा है ।इसकी राजधानी वाजुड़ है जहां कोई रेलवे स्टेशन या एयर पोर्ट नहीं है ,फिर भी यह विश्व के चुनिंदे शहरों में एक है । यहाँ कुछ बड़े म्यूजियम हैं जिसमें अनेक ऐतिहासिक कृतियाँ ,धरोहर रखी हुई हैं । यहाँ की राजकीय पुस्तकागार में देश से प्रकाशित होने वाली सभी पुस्तकें और पत्र  पत्रिकाएँ मौजूद हैं । ,इसके अलावा एक बेहतरीन स्टाम्प म्यूजियम, स्की म्यूजियम और ग्राम्य जीवन म्यूजियम भी है । बहुत से परोपकारी संस्थानों ,चैरिटेबल संस्थानों का मुख्यालय भी यहाँ है ।

  वाजुड कैसल ,गुटनबर्ग कैसल ,रेड हाउस आदि यहाँ पर्यटकों का  दर्शनीय आकर्षण है । पर्यटन इसका एक बहुत बड़ा आर्थिक संबल रहा है ।

सिरामीक और नकली दांत का यह विश्व में सबसे बड़ा उत्पादन कर्ता देश है । इसके अलावा यहाँ के खेतों में गेंहू,मक्का,जौ,आदि भी उपजाया जाता है ।  

यूरोपीय देशों के युद्धों से इसकी आर्थिक हालात बहुत खराब रही थी ।

एक समय ऐसा भी था जब इसकी माली स्थिति इतनी खराब थी कि यहाँ के शासक परिवारों को महल के कीमती और दुर्लभ पेंटिंग तक बेचने पड़े थे [ इसी क्रम में लियोनार्डो दा विंची की अप्रतिम पेंटिग 1967 में 5 मिलियन डौलर में बेच दी गई थी ] । मगर आज हालात ऐसा है कि यह दुनिया के धनी देशों में शुमार हो गया है ।इस चमत्कार का कारण है ।सन 1970 से  इसने अपना कॉर्पोरेट टैक्स कम कर दिया ,जिससे बहुत से देशों की कंपनियाँ यहाँ खींची चली आई ।

लेकिन इसकी समृद्धि का कारण कुछ और भी है । विश्व में कुछ देश , जैसे एंटिगुआ ,स्विट्जरलैंड ,बहामाज ,सेन्ट किट्स ,लीचेस्टीन आदि    ऐसे हैं ,जहां संसार भर के काला धन छुपाए  जाते हैं । स्विट्जरलैंड तो इस  बारे में विश्व विख्यात रहा है , मगर उसके पहलू में सिमटा यह भोला भला  देश एक भारतीय के कारण ही कुछ वर्ष पहले सुर्खियों में आया । वह सामान्य सा पुणे का मानुष प्रसिद्ध अश्व प्रेमी हासन अली था जिसके करोड़ों रुपए यहाँ के बैंक में जमा थे ।इस के बाद ही अन्य देशों के सरकार की नजर भी,इस नई जानकारी के साथ  इसकी तरफ उठी थी ।,

     प्रिंस ऑफ लीचेस्टीन विश्व का सबसे धनी राजाओं में शुमार है वाजुड़ का किला परम विख्यात है ,खड़ी पहाड़ी के ऊपर बने इस किले से सम्पूर्ण शहर बहुत ही खूबसूरत दिखाई पड़ता है । मध्यकालीन युग में बना यह किला अपने आप में अनोखा है । राष्ट्रीय छुट्टी के दिन प्रजा को किले में आने के लिए आमंत्रित किया जाता है , जहां उनके स्वागत में बियर परोसा जाता है ।

यहाँ की समृद्ध जनता विश्व के उच्चतम जीवन शैली मापदण्डों के साथ जीवन यापन करती है ।

इस खूबसूरत देश को देखने हजारों की संख्या में लोग नित्यप्रति आते हैं । जून जुलाई अगस्त अच्छा मौसम है ,लेकिन हल्की बारिश भी हो जाती है ।

 

कामिनी कामायनी ॥

टिप्पणियाँ

----------

10,000+ रचनाएँ. संपूर्ण सूची देखें.

अधिक दिखाएं

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

---

तकनीक व हास्य -व्यंग्य का संगम – पढ़ें : छींटे और बौछारें

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद/अनुसरण करें

परिचय

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com

अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

डाक का पता:

रचनाकार

रवि रतलामी

101, आदित्य एवेन्यू, भास्कर कॉलोनी, एयरपोर्ट रोड, भोपाल मप्र 462030 (भारत)

कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.

उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.


इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.