रचनाकार

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका

अखिलेश कुमार भारती की कविता - श्रेष्ठ भारत

“श्रेष्ठ भारत”( संकल्प गीत)

कुछ तुम कहोकुछ मैं कहूं,

एक-साथ मिलकर हमसब कहें,

भारत राष्ट्र हमारा है,

दुनिया-भर मे सबसे न्यारा है,

कितना सुन्दर, कितना प्यारा,

भारत राष्ट्र हमारा है |


श्रेष्ठ भारत बनाना है,

जन-चेतनाजन-जागृति फैलाना है,

नैतिक-मूल्यों का सही उपयोग से,

श्रेष्ठ राष्ट्र में जन-भागीदारी बढ़ना है |


राष्ट्र उन्नतिश्रेष्ठ भारत,

जन-जन में यही जागृति लाना है |

राष्ट्र-हित सर्वोपरि धर्म है,

श्रेष्ठ राष्ट्र बनाना है |


स्वच्छसुन्दर पर्यावरण बनाये,

यह संकल्प जन-जन को बताये,

राष्ट्र-शिक्षा से देश तरक्क़ी,

तन-मन में नये उमंग भरें,

सर्व धर्मसर्व हिताय  की सेवा राष्ट्र  भर में फैलाये,

यहाँ बहुल्य संस्कृति-सभ्यता का अनोखा मेल बनाये,

बहुल भाषाओ का प्रेम-मोल से राष्ट्र-हित को सर्वोपरि बनाये |


पर्वतनदियाँ और समंदर,

भारत राष्ट्र का  है धरोहर,

अखंडतासहिष्णु राष्ट्र प्रेम है,

हाथ थाम करएक होकर,

तन-मन में नये उमंग भर कर,

श्रेष्ठ भारत बनाने का संकल्प करे ।


राम-राज्य सा देश हो अपना,

यह संकल्प हमसब में हो अपना,

गौरवशाली जनसंकल्प से,

स्वर्णिम राष्ट्र बनाना है,

हिमालय के सरताज सिर पर,

भारत माँ की जयगाथा लिखना है |


भारत की पुण्य धरा पर,

रामायणमहाभारतगीता का नया सन्देश फैलाना है,

एकता ही भारतीयता है,

यह संकल्प हमसब से होकर,

स्वर्णिम राष्ट्र बनाना है |    

    -------AKHILESH KUMAR BHARTI------------------------------------

विषय:
रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget