रचनाकार

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका

कैलाश प्रसाद यादव की कविताएँ - लौटा फिर से प्यार

image         

    करवा चौथ - लौटा फिर से प्यार

चंदा देख रही चंदा में, सजन की सूरत, सजन का प्यार
आज सुहागिन सजी है फिर से, फिर से किये सिंगार।
  चंदा ढ़ूंढ़ रही चंदा को, दूर गगन के पार,
  निराहार दिन भर से फिर भी, न माँगे संसार,
  लंबी उम्र सजन की माँगे, माँगे सच्चा प्यार।
  आज सुहागिन सजी है फिर से, फिर से किये सिंगार।
करवॉ चौथ, पावन गंगा सा, निर्मल जिसकी धार,
जिनके साजन रूठ गये थे, चंदा के संग वे भी लौटे,
                      लौटा फिर से प्यार।
आज सुहागिन सजी है फिर से, फिर से किये सिंगार।

                        --

  

                याद फिजा़ में रहती हैं.....

आती-जाती साँसें मुझसे, चुपके से कुछ कहती हैं...
आनी-जानी काया लेकिन, याद फिजा में रहती हैं
   अंग-अंग में घाव लगे हों, पोर-पोर भी घायल हो,
   मन भारी हो धरा के जितना, फिर भी सब कुछ सहती हैं...
   आनी-जानी काया लेकिन, याद फिजा में रहती हैं
इन नयनों से जो कुछ दिखता, वो तो केवल नश्वर है...
भूख, प्यास, एहसास शाश्वत, इन्हीं की नदियां बहती हैं...
आनी-जानी काया लेकिन, याद फिजा में रहती हैं
   दूर कहीं से बिन बोले ही, बाँह पसारे आती है,
   गोद बिठाकर सबको इक दिन, दूर कहीं ले जाती है....
   सदियों से वो लगी हुई है, सब कुछ करके देख लिया...
   नींद भी संग में ले गई अपने, सपने यहीं पे छूट गये,
   आशा-तृष्णा बचीं यहीं पर, आस-पास ही रहती हैं...
   आनी-जानी काया लेकिन, याद फिजा में रहती हैं
आती-जाती लहरें तट पर, ठहर-ठहर कुछ कहती हैं,
संग चलो पाताल दिखा दूं, आसमान से कहती हैं...
मंद-मंद पवन के झोंके, कलियों से कुछ कहते हैं...
फूलों के संग-संग भँवरे भी, घाव सदा ही सहते हैं...
पत्थर दिल इंसानों में भी, सपने अक्सर नर्म हुये,
दिल में ठंडा बर्फ है फिर भी, आंसू अक्सर गर्म हुये....
ऋतुऐं तो आनी-जानी हैं, यहां तो खुशबू बहती हैं...
आनी-जानी काया लेकिन, याद फिजा में रहती हैं
       
                        ''सनातन''
                     कैलाश प्रसाद यादव       

विषय:
रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget