विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - रचनाकार में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com

युवा कवि , नाटककार , लघु कथाकार सुनील गज्जाणी सम्मानित

image 

बीकानेर के हिंदी - राजस्थानी के युवा कवि , नाटककार , लघु कथाकार सुनील गज्जाणी को साहित्यिक संस्थान '' भारतीय वांग्मय पीठ कोलकोता '' मानद उपाधि  'साहित्य शिरोमणि सारस्वत  द्वारा प्रदान की गयी !
मानद उपाधि प्रदान करते हुए प्रोफ़ेसर अभिजीत भट्टाचार्य ने शुभ कामनाएं प्रदान करते हुए कहा की '' गद्य -पद्य में समान रूप से लेखन-कर्म करना ,वो भी सिद्धहस्त हो करना साहित्य को समृद्ध करने में महती भूमिका निभाना है !''

भारतीय वांग्मय पीठ के संस्थापक एवं मंत्री प्रोफेसर श्याम लाल उपाध्याय ने कहा कि '' गज्जाणी अपना लेखन हिंदी के साथ -साथ अपनी मातृ भाषा में भी करते है जो गौरव की बात है और अपनी मातृ भाषा के प्रति समर्पण भाव प्रकट करता है।  गज्जाणी पर माँ सरस्वती की कृपा यू हीं बनी रहे और साहित्य को समृद्ध करते रहें ये भारतीय वांग्मय पीठ कामना करता है !''

गौरतलब रहे की इस वर्ष सुनील गज्जाणी को  सारस्वत सम्मान ''महृर्षि दयानंद सरस्वती सम्मान ''हिंदी  साहित्य में योगदान के लिए प्रदान किया गया तथा ये भी उल्लेखनीय है की राजस्थानी बाल कृति '' बोई काट्या हे '' के लिए श्रीमती प्यारी देवी घासी राम सियाग स्मृति साहित्य सम्मान '' के अतिरिक्त '' अखिलेश माहेश्वरी पुरस्कार '' (मैनपुरी,उत्तर प्रदेश )  प्राप्त हो चुका है !
सुनील गज्जाणी हिंदी लघु कथाओं का मराठी एवं सिंधी में अनुवाद होने के साथ -साथ कविताओं का गुजराती में भी अनुवाद हुआ चुका है !
गज्जाणी की अभी तक तीन पुस्तकें  '' ओस री बूँदा '' ( राजस्थानी काव्य संग्रह ) '' किनारे से परे व अन्य नाटक '' ( हिंदी लघु नाट्य संग्रह ) एवं ''' बोई काट्या हे "" ( चन्दर सिंह बिरकाळी पुरस्कार प्राप्त ,राजस्थानी बाल नाटक ) प्रकाशित हुईं है ! गौर तलब रहे कि '' ओस री बूँदा '' को ''मूल चन्द प्राणेश स्मृति एवार्ड '' प्राप्त हो चुका है !

गद्य-पद्य विधाओं में समान रूप से लिखने वाले कवि , नाटककार सुनील गज्जाणी की रचनायें भिन्न भिन्न प्रतिष्ठित देश -विदेश कि पत्र पत्रिकाओं में प्रकाशित होती रहतीं है तथा अन्तरजाल पर भी निरन्तर सक्रियता से अपनी अभिव्यक्ति प्रदान करते रह्ते हैं !

   ब्लॉगर एवं साहित्यिक संस्थान '' बुनियाद '' के अध्यक्ष सुनील गज्जाणी की इस उपलब्धि पर नगर के रचनाकारों , रंगकर्मियों सहित मधु आचार्या,  नीरज दैया , नवनीत पांडे , कमल रंगा , राजेन्द्र पी जोशी, सुधेश व्यास ,संजय पुरोहित ,संजय आचार्य 'वरुण ' हरीश बी शर्मा।  रमेश भोजक '' समीर ''  राम सहाय हर्ष  , नवल किशोरी व्यास , अशोक व्यास इरशाद अज़ीज , अजित राज . आत्मा राम भाटी ,राजेश ओझा ,  नदीम अहमद नदीम गिरीश पुरोहित , असद अली असद ,डॉक्टर कृष्णा आचार्य , बाबू लाल छंगाणी , ,मुकेश व्यास नरेंद्र व्यास आदि ने  प्रसन्नता व्यक्त की !


--

Sunil Gajjani
President Buniyad Sahitya & Kala Sansthan, Bikaner
Add. : Sutharon Ki Bari Guwad
Bikaner (Raj.)

रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु बेनामी टिप्पणियाँ बंद की गई हैं (आपको पंजीकृत उपयोगकर्ता होना आवश्यक है) तथा साथ ही टिप्पणियों का मॉडरेशन भी न चाहते हुए लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

[facebook][blogger]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget