रचनाकार

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका

फ़ोन करें, नेट पर अपनी आवाज में रचना प्रकाशित करें योजना पहले दिन ही सफल!

कल ही फ़ोन करें, नेट पर अपनी आवाज में रचना प्रकाशित करें योजना का शुभारंभ हुआ था. पहले ही दिन 10 कॉल आए, जिसमें से 9 का प्रकाशन यूट्यूब के माध्यम से किया जा चुका है. सामान्य पॉडकास्ट (एमपी3) के बजाए यूट्यूब वीडियो को इसलिए चुना गया है कि भविष्य में स्मार्ट टीवी तथा स्ट्रीमिंग उपकरणों के जरिए यूट्यूब साहित्य जगत के दृश्य-श्रव्य माध्यम के उपभोग का एक बड़ा हिस्सा बनेगा. और यहाँ से रचनाएँ आसानी से और आराम से खोज कर सुनी जा सकती हैं.

 

खेद है कि प्राप्त कुल 10 में से 1 फ़ोन कॉल के जरिए रेकॉर्ड हुई कविता का प्रकाशन इसलिए नहीं किया जा सका क्योंकि फ़ोन कॉल ड्रॉप हो रही थी और आवाज बहुत ही अस्पष्ट थी. कॉल का शुरुआती 5 नं. 72773***** है और यह कॉल 16 तारीख को रात्रि 10 बजे रेकॉर्ड हुआ था. आग्रह है कि जिन्होंने भी रेकार्डिंग की है वे रेकॉर्डिंग के लिए फिर से प्रयास करें, और यथा संभव ऐसी जगह से करें जहाँ सिग्नल अच्छी हो या फिर (अधिक बेहतर है कि) लैंडलाइन फ़ोन का उपयोग करें.

 

और हाँ, आप सबने जो रेकॉर्ड से पहले का निर्देश सुना - जानते हैं उसे किसने आवाज दी है?

 

यह मशीनी आवाज है. जी हाँ. एकदम प्राकृतिक सी लगती आवाज - मशीनी है. हिंदी टैक्स्ट टू स्पीच (पाठ से वाचक) प्रोग्राम (आईओएस 9 में उपलब्ध)  के जरिए इसे रेकॉर्ड किया गया है!

है न टेक्नोलॉज़ी का कमाल?

 

फ़ोन लगाते रहें, अपनी कविताएँ रेकॉर्ड करते रहें.

अधिक जानकारी यहाँ से लें.

रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget