मनोज 'आजिज़' की कविता - आओ ऐसा भारत गढ़ें

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

image

बना मूरख लोगों को नेता
पका रहे अपनी बिरियानी
लोक-भावना को बिगाड़कर
करते अपनी मनमानी।

अजीब माहौल बना देश में
राम को आस न्याय की
रहीम हैं घोर संशय में कि
क्या हालत हो उनके अनुयायी की।

शताब्दियों से चलती आई
परंपरा एक ऐसी यहाँ
राग-द्वेष छोड़ रहते यहाँ
दुनिया में जगह ऐसी कहाँ ?

आओ सभी साथ मिलकर
एक ऐसा भारत को गढ़ें
हिंसा, आक्रोश की जड़ों को
प्यार से दल आगे बढ़ें।

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

0 टिप्पणी "मनोज 'आजिज़' की कविता - आओ ऐसा भारत गढ़ें"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.