अखिलेश कुमार भारती की कविता - जीवन- दर्शन की अभिलाषा

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

artist03-small_50180302_o

अँधियारा जाने को है,

नया सवेरा आने को है

जीवन के कठिन मोड़ पे,

नए चेतना उन्मुक्त होने को है |

जीवन को उत्कृष्ट करें,

तन-मन को निर्मल करें

ह्रदय को पवित्र करें

नया वातावरण बनने को है |

अपनी कुशल क्षमताएँ पहचानें,

सारी सुख-सुविधाएँ आने को है |

वो वक्त आज आने को है,

चेहरे पर मुस्कान लेकर

जीवन के कठिन मोड़ पे,

नए मुकाम हासिल होने को है |

सागर की लहरों जैसा,

जीवन में आनंद आने को है

सूरज की रौशनी सा,

दुनिया में नया सवेरा होने को है

नए मुकाम हासिल होने को है |

-------

AKHILESH KUMAR BHARTI

JUNIOR ENGINEER

MPPKVVCL

(Akhilesh.bharti59@gmail.com)

---------------------

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

0 टिप्पणी "अखिलेश कुमार भारती की कविता - जीवन- दर्शन की अभिलाषा"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.