गुरुवार, 22 अक्तूबर 2015

अखिलेश कुमार भारती की कविता - जीवन- दर्शन की अभिलाषा

artist03-small_50180302_o

अँधियारा जाने को है,

नया सवेरा आने को है

जीवन के कठिन मोड़ पे,

नए चेतना उन्मुक्त होने को है |

जीवन को उत्कृष्ट करें,

तन-मन को निर्मल करें

ह्रदय को पवित्र करें

नया वातावरण बनने को है |

अपनी कुशल क्षमताएँ पहचानें,

सारी सुख-सुविधाएँ आने को है |

वो वक्त आज आने को है,

चेहरे पर मुस्कान लेकर

जीवन के कठिन मोड़ पे,

नए मुकाम हासिल होने को है |

सागर की लहरों जैसा,

जीवन में आनंद आने को है

सूरज की रौशनी सा,

दुनिया में नया सवेरा होने को है

नए मुकाम हासिल होने को है |

-------

AKHILESH KUMAR BHARTI

JUNIOR ENGINEER

MPPKVVCL

(Akhilesh.bharti59@gmail.com)

---------------------

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------