अखिलेश कुमार भारती की कविता - जीवन- दर्शन की अभिलाषा

artist03-small_50180302_o

अँधियारा जाने को है,

नया सवेरा आने को है

जीवन के कठिन मोड़ पे,

नए चेतना उन्मुक्त होने को है |

जीवन को उत्कृष्ट करें,

तन-मन को निर्मल करें

ह्रदय को पवित्र करें

नया वातावरण बनने को है |

अपनी कुशल क्षमताएँ पहचानें,

सारी सुख-सुविधाएँ आने को है |

वो वक्त आज आने को है,

चेहरे पर मुस्कान लेकर

जीवन के कठिन मोड़ पे,

नए मुकाम हासिल होने को है |

सागर की लहरों जैसा,

जीवन में आनंद आने को है

सूरज की रौशनी सा,

दुनिया में नया सवेरा होने को है

नए मुकाम हासिल होने को है |

-------

AKHILESH KUMAR BHARTI

JUNIOR ENGINEER

MPPKVVCL

(Akhilesh.bharti59@gmail.com)

---------------------

टिप्पणियाँ

----------

10,000+ रचनाएँ. संपूर्ण सूची देखें.

अधिक दिखाएं

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

---

तकनीक व हास्य -व्यंग्य का संगम – पढ़ें : छींटे और बौछारें

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद/अनुसरण करें

परिचय

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com

अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

डाक का पता:

रचनाकार

रवि रतलामी

101, आदित्य एवेन्यू, भास्कर कॉलोनी, एयरपोर्ट रोड, भोपाल मप्र 462030 (भारत)

कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.

उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.


इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.