रचनाकार

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका

बख्त्यार अहमद खां की कविता - बेटी

image

मेरे दिल का चैन है तू , आंखों की चमक है तू
मेरे दिल की जमीन है तू और मेरा फलक है तू
तेरी मौजूदगी से मिलती है हिम्मत मुझको,
तेरी चाहत से ही मिलती है राहत मुझको,

मैं जब भी थका हूँ, तेरी मुस्कान ने खुशी दी है,
मैं जब भी झुका हूँ तेरे हौसले ने बुलंदी दी है,
जो तू रही है तो इस आलम में मैं भी रहा हूँ,
तेरे वजूद के चिराग ने मेरे वजूद को रौशनी दी है,
तू न होती तो ये खुशी मयस्सर नहीं होती,
ये महफिलें ये रौनकें मेरे घर नहीं होती,

ये और बात तू एक रोज जुदा हो जाएगी

ये भी सच है तेरी याद बहुत आएगी,

तमाम उम्र तेरी मोहब्बत को कम न होने दूँगा,
हर एक गम तेरी किस्मत का मैं अपने सर लूँगा,
ऐ खुदा । मुझको ताकत दे ये रस्म भी अदा कर दूँ
साथ इज्जत के तुझे घर से मैं बिदा कर दूँ
दुआ करता हूँ मैं दिल से सदा खुश रहना,
तुम भी सुन लो -मेरी बेटी से कुछ न कहना
न अगर चाहो तो मेरे घर न आने देना,

हाँ मगर ऑख में उसकी ऑसू भी न आने देना,
दिल का चैन और रूह की तस्कीन तुम्हें दे दी है,
गेर मैं क्या दूँ की मेरी बेटी तुम्हें दे दी है,
कछ करो न करो बस इतना करम कर देना,
मेरी बच्ची को हमेशा के लिए खुश रख लेना ।

-

रानी बाग, शमशाबाद रोड, आगरा

ba5363@yahoo.com

विषय:
रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget