आलेख || कविता ||  कहानी ||  हास्य-व्यंग्य ||  लघुकथा || संस्मरण ||   बाल कथा || उपन्यास || 10,000+ उत्कृष्ट रचनाएँ. 1,000+ लेखक. प्रकाशनार्थ रचनाओं का  rachanakar@gmail.com पर स्वागत है

राकेश अचल की व्यंग्य ग़ज़लें

image

बहती गंगा में हाथों को धो लीजे
********************************
हमको भी हासिल है इतनी आजादी
इज्जत लौटाना थी,हमने लौटा दी
*
हम फ़क़ीर हैं नंगे भी रह सकते हैं
आप वजीर बने हैं,पहने अब खादी
*
बहती गंगा में हाथों को धो लीजे
लोग कहें,कहने दें हम अवसरवादी
*
हिंसा का शिकार है ,कोई बात नहीं
आधी से ज्यादा दुनिया की आबादी
*
अचल लिखोगे और तो मारे जाओगे
बात खरी भी है समझो सीधी-सादी
*
---

 

हम कागज के शेर, तो डरते क्यों हो

बोलो कुछ शमशेर, बगरते क्यों हों

*

सब कुछ है मामूल तो फिर घर बैठो

बेमतलब निशि-याम विचरते क्यों हो ?

*

यहां नहीं है वीफ,थीफ या गैया

रोज गली से आप गुजरते क्यों हो ?

*

सांप और सीढ़ी का खेल अजब है

सीढ़ी चढ़ते और उतरते क्यों हो ?

*

हम तो नहीं मुनव्वर राना भाई

नए पैरों को रोज कतरते क्यों हो?

*

कोई नहीं देखने वाला तुमको

अचल व्यर्थ में आप संवारते क्यों हो ?

*

@राकेश अचल

f/10,new park hotel,padav

gwalior

[m.p.]

09826217795

टिप्पणियाँ

----------

10,000+ रचनाएँ. संपूर्ण सूची देखें.

अधिक दिखाएं

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

---

तकनीक व हास्य -व्यंग्य का संगम – पढ़ें : छींटे और बौछारें

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद/अनुसरण करें

परिचय

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com

अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

डाक का पता:

रचनाकार

रवि रतलामी

101, आदित्य एवेन्यू, भास्कर कॉलोनी, एयरपोर्ट रोड, भोपाल मप्र 462030 (भारत)

कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.

उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.


इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.