विज्ञापन

0

image

बहती गंगा में हाथों को धो लीजे
********************************
हमको भी हासिल है इतनी आजादी
इज्जत लौटाना थी,हमने लौटा दी
*
हम फ़क़ीर हैं नंगे भी रह सकते हैं
आप वजीर बने हैं,पहने अब खादी
*
बहती गंगा में हाथों को धो लीजे
लोग कहें,कहने दें हम अवसरवादी
*
हिंसा का शिकार है ,कोई बात नहीं
आधी से ज्यादा दुनिया की आबादी
*
अचल लिखोगे और तो मारे जाओगे
बात खरी भी है समझो सीधी-सादी
*
---

 

हम कागज के शेर, तो डरते क्यों हो

बोलो कुछ शमशेर, बगरते क्यों हों

*

सब कुछ है मामूल तो फिर घर बैठो

बेमतलब निशि-याम विचरते क्यों हो ?

*

यहां नहीं है वीफ,थीफ या गैया

रोज गली से आप गुजरते क्यों हो ?

*

सांप और सीढ़ी का खेल अजब है

सीढ़ी चढ़ते और उतरते क्यों हो ?

*

हम तो नहीं मुनव्वर राना भाई

नए पैरों को रोज कतरते क्यों हो?

*

कोई नहीं देखने वाला तुमको

अचल व्यर्थ में आप संवारते क्यों हो ?

*

@राकेश अचल

f/10,new park hotel,padav

gwalior

[m.p.]

09826217795

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

[और रचनाएँ][noimage][random][12]

 
शीर्ष