रचनाकार

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका

इतिश्री सिंह राठौर की कविता - तुम मर चुके हो मोहनदास!

 

अब तुम मान जाओ कि तुम मर चुके हो मोहनदास
वरना  बड़े-बड़ों की लाख कोशिशों के बावजूद
आज किसी गली से इकलौता पागल न गुजरता रामधुन गाते हुए
गांधीवाद को यूं न घसीटा जाता सरे आम


आक्रोश को अहिंसा का मुखौटा पहनाते हुए
न बेची जाती दो टके में इमान,  भरे बाजार में
तुम्हारे आदर्शों का चादर चढ़ाते हुए
दो अक्टूबर को ही केवल याद न किया जाता


तुम्हें दिलों में जिंदा रखने की झूठी कसमें खाते हुए
यूं रोज हजार बार तुम्हें दफनाया जाता है
तुम्हें आभिदान के  तख्ते पर चढ़ाते हुए
इसीलिए
आब  मान जाओ कि तुम मर चुके हो मोहनदास


और यह वादा है हमारा कि
हम चंद लम्हों में ही 
तुम्हारे वजूद को खत्म कर देंगे
तुम्हारी जयजयकार करते हुए
अब तुम मान भी जाओ कि तुम मर चुके हो मोहनदास

- इतिश्री सिंह राठौर (श्री)

विषय:
रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget