गुरुवार, 22 अक्तूबर 2015

निर्मला सिंह गौर का कविता पाठ - रास्ता

फ़ोन करें, रचना रेकॉर्ड करें, यूट्यूब पर प्रकाशित करें प्रकल्प के तहत प्रस्तुत है निर्मला सिंह गौर का एक और कविता पाठ - रास्ता.

 

 

परिचय -

निर्मला सिंह गौर
प्रकाशित काव्य संकलन १. तुम्हें देखकर/ २. एक टुकड़ा बादलों का (संघी प्रकाशन जयपुर )
जागरण जंक्शन पर 'भोर की प्रतीक्षा में' ब्लॉग पर नियमित लेखन .

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.