आलेख || कविता ||  कहानी ||  हास्य-व्यंग्य ||  लघुकथा || संस्मरण ||   बाल कथा || उपन्यास || 10,000+ उत्कृष्ट रचनाएँ. 1,000+ लेखक. प्रकाशनार्थ रचनाओं का  rachanakar@gmail.com पर स्वागत है

सी.बी. श्रीवास्तव की कविता - पर्यटन

image
बंधी नियमित जिदंगी से होती है सबको घुटन
इससे मन बहलाव के हित जरूरी है पर्यटन

तेज गति के वाहनों से सुलभ अब आवागमन
घूमने जाने का इससे बढा दिखता है चलन

शिक्षा ने भी बढाया है परिभ्रमण का हौसला
इससे बढता जा रहा है टूरिज्म का सिलसिला

देश और विदेश में कई अनोखे स्थान हैं
जहां जाने देखने का मन में आता ध्यान है

ऐसे स्थल धार्मिक है प्राकृतिक या कलात्मक
और कई है ऐतिहासिक औद्योगिक या सृजनात्मक

पर्यटन सुविधाओं के भी है वहां साधन कई
और होती जा रही हैं आये दिन सुविधायें नई

स्थानीय लोागों को मिल जाते सहज रोजगार भी
इससे नये नये केन्द्रों को है रच रही सरकार भी

अलौकिक सुख शांति भी बिखरी वहां परिवेष में
खोजे गये है स्थल ऐसे देश और विदेश में

नदी निर्झर झील वन मोहक प्रकृति शोभा सुखद
अलौकिक सुख शांति है बिखरी जहां आनन्दप्रद

घोलती मधुरस जहां पर मन में नित प्राकृत छटा
बातें करती मौन सबसे प्रकृति हिलमिल सर्वदा

कान्हा रणथम्भौर कार्बेट इलोरा औ अजंता
बुलाते है मौन सबको मिलने नालन्दा गया

अभय वन में शेर चीता बायसन गेंडे सुअर
सहज दिखते घूमते फिरते निडर से बेफिकर

पर्वतों में हिमालय सतपुडा विन्ध्य अरावली
शत्रुओं के मन में जिनको देख मचती खलबली

नदिया अगणित पतित पावन गंगा यमुना नर्मदा
समुद्री तट झील डल जिनसे न मन होता विदा

किले जैसे ग्वालियर झांसी तथा चितौडगढ
है जहां इतिहास जीवित और जो अब भी सुदृढ

मूर्तियां खजुराहो की अब भी है सुंदर प्राणवान
जो धरोहर विश्व के इतिहास की सबसे महान

शहरों में दिल्ली अयोध्या काशी मुम्बई आगरा
जोधपुर जयपुर उदयपुर पटना चेन्नई द्वारका

देश और विदेश में लाखों सुघर स्थान हैं
जिनकी इस संसार में है प्रसिद्धि औ सम्मान है

दर्शनीय स्थलों से मिलता ज्ञान अनुभव जागरण
बहुत सी नई जानकारी और खुश होता है मन

बन गया है पर्यटन एक लाभप्रद उद्योग अब
कर रहे विस्तार इसका इसी से है देश सब

आइये इसका यथोचित हम भी तो शुभ लाभ लें
इस नवल उद्योग को बढने में समुचित साथ दें।

--

प्रो. सी.बी. श्रीवास्तव
ओ.बी. 11, एमपीईबी कालोनी
रामपुर, जबलपुर
मो. 9425806252

टिप्पणियाँ

----------

10,000+ रचनाएँ. संपूर्ण सूची देखें.

अधिक दिखाएं

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

---

तकनीक व हास्य -व्यंग्य का संगम – पढ़ें : छींटे और बौछारें

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद/अनुसरण करें

परिचय

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com

अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

डाक का पता:

रचनाकार

रवि रतलामी

101, आदित्य एवेन्यू, भास्कर कॉलोनी, एयरपोर्ट रोड, भोपाल मप्र 462030 (भारत)

कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.

उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.


इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.