विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - रचनाकार में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com

तारा सिंह की कहानी - खून के रिश्ते

खून के रिश्ते

                    --- डॉ० श्रीमती तारा सिंह
     
  धन्ना सेठ का बेटा ,पतुरबा बचपन से ही बड़ा धर्मपरायण आदमी था, लेकिन दो-तीन महीने से वह भीषण वेदना में जी रहा था । उसकी सूरत, उसकी अवस्था को शब्दों से अधिक व्यक्त कर रही थी । वह चिंता की सजीव मूर्ति बन गया था , उसका शरीर हड्डियों का ढ़ाँचा था । कभी-कभी अपने जीवन-आनंद को दुर्लभ पाकर वह फ़ूट-फ़ूट कर रोता था । आत्मविश्वास जो कभी पतुरबा के संतोष का पात्र था, उसके चित से लुप्त हो गया था । उसके पिता धन्ना- सेठ , शहर के सभी डॉक्टरों से इलाज करवाये, लेकिन पतुरबा को बचा न सके । आखिर पतुरबा ने एक दिन पौष महीने के त्रयोदशी की रात को दो बजे, इस संसार को अलविदा कह दिया ।
         पुत्र के चले जाने का सदमा, पतुरबा की माँ ,’मनकी’ बर्दाश्त न कर सकी, और वह छलांग मारती हुई बहू शोभा (पतुरबा की पत्नी) के पास गई और उसे पकड़कर उसके माँग की सिंदूर धो डाली, चूड़ियाँ तोड़ दी । शोभा रोती रही, चिल्लाती रही, लेकिन उसे जरा भी दया नहीं आई । उसने बहू को घसीटकर घर के बाहर दरवाजे पर ले जाकर पटक दिया , बोली---- कुलक्षणी ! तू मेरे बेटे को खा गई ; तेरे लिए अब इस घर में कोई जगह नहीं है ।
शोभा को अपना कहने वाला,दुनिया में पति पतुरबा के सिवा और कोई नहीं था । वह माँ-बाप को बचपन में ही एक ट्रेन एक्सीडेन्ट में खो चुकी थी । आज तो उसका अंतिम सहारा भी छिन गया । बचपन से ही हर गम को अमृत जानकर पीने वाली शोभा, सास मनकी का पैर पकड़कर काफ़ी गिड़गिड़ाई, लेकिन ’मनकी’ एक न सुनी । हार मानकर शोभा, पति की अंतिम विदाई को देखने के लिए सड़क पर बैठ गई और वहीं रोती-बिलखती रही ।
           गाँववालों ने पतुरबा की लाश किसी तरह उसके माता-पिता को समझा-बुझाकर, अपने कब्जे में लिया । जब श्मशान जाने की तैयारी होने लगी, तब जोड़ों की बारिश शुरू हो गई । किसी में इतनी हिम्मत नहीं थी कि घर से बाहर निकले ; लेकिन जब भोर होने चला , तब गाँव के बुजुर्ग दादा बंशीलाल बोले ---- माटी बर्बाद हो जायगी, और देरी ठीक नहीं होगी । श्मशान, गाँव से लगभग पाँच किलोमीटर दूर था , साथ ही क्षेत्रफ़ल काफ़ी बड़ा होने के साथ-साथ जनरहित भी था । दूर-दूर तक कोई गाँव –घर नहीं होने के कारण , लोग दिन को भी वहाँ जाने से डरते थे । लेकिन जाना था, सो किसी तरह काँपते-ठिठुरते लोग पतुरबा की लाश को लेकर श्मशान पहुँचे । चिता सजाकर ,पतुरबा की लाश को उस पर लिटा दिया गया । आगे विधि आरम्भ होती कि चारो तरफ़ अंधेरा छा गया । मूसलाधार बारिश शुरू हो गई और गंगा के उस पार से ठंढ़ी उत्तरी हवा, अस्थि-पंजर को तोड़ने लगी । लोग जान बचाने के लिए इधर-उधर भागने लगे । लगभग आधे घंटे बाद बारिश थमी, तब सभी लोग फ़िर से पतुरबा की चिता के पास आये । तभी किसी ने चिल्लाया----- गजब हो गया, पतुरबा की लाश चिता पर नहीं है, चिता खाली है । धन्ना सेठ छाती पीट-पीटकर रोने लगा, कहने लगा---- मेरे बेटे को कुत्ते-सियाल उठाकर ले गये और नोंच-नोंचकर खा डाले ; अब मैं क्या करूँ ?
          तभी श्मशान का डोम आया; उसने बताया---- यह काम कुत्ते-सियाल का नहीं, बल्कि अघोरों का है । वे लोग अपना मंत्र सिद्ध करने के लिए अधजले लाश तक को भी उठा ले जाते हैं, यह तो समूचा था । डोम की बात सुनकर लोगों में हड़कम्प मच गया ।
किसी ने डोम से पूछा--- अब क्या करें हमलोग ?
डोम ने पूछा  ---   क्या मुखाग्नि हो चुकी है ?
धन्ना सेठ रोता हुआ बोला--- हाँ, वो तो बारिश के पहले हो चुकी थी ।
डोम ने कहा--- तब तो अब क्रियाकर्म ही बचता है ; आपलोग गाँव जाकर , पितरमिलान का काम कीजिये ।
डोम की बात से सहमति जताते हुए, सभी लोग गाँव लौट गये । गाँव लौटकर देखा---- एक आदमी, बिल्कुल सफ़ेद धोती में लिपटा भागा जा रहा है, और गाँव के मर्द, औरतें, बच्चे , सभी उसके पीछे लाठी-डंडे लेकर दौड़ रहे हैं । किसी को कुछ समझ में नहीं आ रहा था,कि यह सब क्यों हो रहा है ? तभी वह आदमी ,धन्ना सेठ से जा लिपटा । उसका मुँह जला हुआ था,वह बोल नहीं पाता था, लेकिन इशारे से बताया--- मैं आपका बेटा पतुरबा हूँ ।
पतुरबा का नाम सुनते ही बाकी लोग जान लेकर ,भूत-भूत चिल्लाते हुए उल्टे पैर भागे । धन्ना सेठ भी जान छुड़ाकर भागने लगा, लेकिन वह आदमी, उसके पैरों से लिपट गया और कहा--- आप मुझे पहचानिये , मैं आपका बेटा,पतुरबा हूँ ।
पतुरबा का नाम सुनते ही, धन्ना-सेठ चिल्ला पड़ा--- तो तुम भूत नहीं ।
उसने कहा---- मैं भूत नहीं, मैं अभी जिंदा हूँ । आप इन लोगों से मुझे बचा लीजिये,वरना मुझे भूत समझकर मार डालेंगे ।
धन्ना-सेठ अपना पैर छुड़ाते हुए बोला--- लेकिन तुम्हारी हो मुखाग्नि हो चुकी है,अब तुम मेरा बेटा कैसे हो सकता है ? हिंदू-धर्म , मुखाग्नि होने के बाद , उसे मुर्दा मान लेता है , और मुर्दा किसी का रिश्तेदार नहीं होता , इसलिए तुम कहीं और चले जाओ । मैं तुमको अपने घर नहीं रख सकता ।
पिता के मुँह से ऐसी बातें सुनकर , पतुरबा अवाक रह गया और रोते हुए पूछा--- क्या धर्म, संतान से बड़ा होता है, पिताजी ?
धन्ना-सेठ कोई जवाब न देकर आँखें फ़ेर लिया, मगर लाख यत्न करने पर भी अपनी आँखों के आँसू को बहने से नहीं रोक सका ।
पतुरबा समझ गया; वह पिता का चरण छूकर निर्दयता के साथ बोला ----- जो धर्म मेल न कराकर ,बिखराव पैदा करे , उसे धर्म नहीं कहते, पिताजी ।
फ़िर कहकहा मारकर बोला---- पिताजी, मुझे माफ़ कर दो, जो मैंने आपको समाज के सामने छोटा किया । मुझे चिता से उठकर ,वहीं गंगा में डूब जाना चाहिये था, लेकिन मेरी गलत सोच मुझे यहाँ ले आई । मैं तो सोच रहा था---- ”आप मुझे पाकर हर्षित हो उठेंगे ; गले से लगाकर कहेंगे, तू आ गया बेटा । तेरे बिना मेरी दुनिया अंधकार थी, मैं तुम्हारे बिना जी नहीं सकता ; इसलिए मुझे छूकर कसम खाओ,कि अब फ़िर कभी हमें छोड़कर नहीं जावोगे , तब मैं आपकी आँखों से बहते आँसू को ,अपने हाथों से पोछता हुआ कहूँगा, नहीं पिताजी ! अब नहीं जाऊँगा “ ।
पतुरबा अपना हाथ, पिता धन्ना-सेठ के मुँह तक ले जाता, उसके पहले ही धन्ना-सेठ चिल्लाता हुआ, दो कदम पीछे हट गया, कहा---- मुझे छूना मत, तुम मुर्दा हो ।
पिता की बात सुनकर, पतुरबा तत्क्षण चला गया,मगर कहाँ, कोई नहीं जानता ? इस घटना को घटे 20 साल बीत गये  ; आज भी धन्ना-सेठ पतुरबा के पिता के नाम से जाना जाता है । लोग कहते हैं, आपने पतुरबा को तो घर में जगह नहीं दी, मगर आज भी पतुरबा के पिता के नाम से जाने जाते हैं । इसे ही कहते हैं, खून के रिश्ते ; जो मरकर भी नहीं टूटते ।  
---
रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु बेनामी टिप्पणियाँ बंद की गई हैं (आपको पंजीकृत उपयोगकर्ता होना आवश्यक है) तथा साथ ही टिप्पणियों का मॉडरेशन भी न चाहते हुए लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

[facebook][blogger]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget