सुरेन्द्र बोथरा ’मनु’ की कविता - तनहाई

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

image

 

विश्व वृद्ध-जन दिवस के अवसर पर विशेष

--

 

तनहाई

 

आज मेरी तनहाई

मुझसे पूछे है वो कहाँ गये,

अपनेपन का दावा करते

वो बेगाने कहाँ गये ?


आये तब मेले लाये थे

पर जाना है मेरे साथ,

जनम-जनम का साथ

निभाने वाले बोलो कहाँ गये ?


एक समय आनन्द बहुत था

सपने सब सच होते थे,

उलझी ज़ुल्फें, मादक नयना,

बाँके चितवन कहाँ गये ?


बहुत दिनों की बात है

झोली भर कर सपने लाया था,

अब बैठा सोचा करता हूँ

सब के सब वो कहाँ गये ?


तब ललाट की सलवट से

तनहाई मेरी बोल उठी,

नश्वर में अक्षर बैठा है

दोनों ही कब कहाँ गये ?


पुष्ट करो तुम उस अंकुर को

जो धरती से फूट रहा,

काल-अकाल निगल ले जिनको,

क्यों सोचो कब कहाँ गये ?


अनुभव के पल-पल को चुन-चुन

संचित कर लो मेरे पास,

रीत-रीत कर बीत गये जो

उनका क्या, कब कहाँ गये ?

 

सुरेन्द्र बोथरा,  email— surendrabothra@gmail.com

-- 
Surendra Bothra
Pl. visit my blog — http://honest-questions.blogspot.in/
Pl. follow my twitter — https://twitter.com/Surendrakbothra

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

0 टिप्पणी "सुरेन्द्र बोथरा ’मनु’ की कविता - तनहाई"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.