लाइव वीडियो - अनूप शुक्ल का कविता पाठ

"फुरसतिया" - अनूप शुक्ल (https://www.facebook.com/anup.shukla.14) अपने सरल शब्दों में मगर उतने ही धारदार समसामयिक व्यंग्य और सरस संस्मरण के लिए जाने जाते हैं. हाल ही में उन्होंने अपने मोबाइल फ़ोन में अपना स्वयं का कविता पाठ रेकॉर्ड किया और यू-ट्यूब पर अपलोड किया. रचनाओं के प्रकाशन का यह माध्यम न केवल अनूठा है, बल्कि ज्यादा असरदार और ज्यादा पहुँच वाला भी है. आप भी अपनी रचनाएँ इस तरह प्रकाशित कर सकते हैं - रचनापाठ का जीवंत वीडियो के रूप में. रचना कहानी भी हो सकती है, लघुकथा भी, कविता भी और आलेश संस्मरण भी. इसके लिए आपके पास केवल एक जीमेल खाता होना आवश्यक है, क्योंकि फिर आपके पास यूट्यूब का खाता पहले से ही मौजूद रहता है. जीमेल से लॉगिन करें, और यूट्यूब पर जाकर अपलोड बटन क्लिक करें. चाहें तो सीधे यूट्यूब पर रेकॉर्ड करें जैसा कि अनूप शुक्ल ने अपने मोबाइल फ़ोन से किया है या फिर पहले से रेकॉर्ड किया वीडियो अपलोड करें. बहरहाल, देखें - सुनें फुरसतिया को -

-

 

टिप्पणियाँ

----------

10,000+ रचनाएँ. संपूर्ण सूची देखें.

अधिक दिखाएं

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

---

तकनीक व हास्य -व्यंग्य का संगम – पढ़ें : छींटे और बौछारें

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद/अनुसरण करें

परिचय

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com

अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

डाक का पता:

रचनाकार

रवि रतलामी

101, आदित्य एवेन्यू, भास्कर कॉलोनी, एयरपोर्ट रोड, भोपाल मप्र 462030 (भारत)

कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.

उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.


इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.