शनिवार, 10 अक्तूबर 2015

दीप्ति सक्सेना की कविता - कब सुबह कब शाम हो गई...

image

चलते चलते जाने कब शाम हो गयी
घटी सारी घटनाएँ आम हो गयी ,
हम खड़े थे लेकिन अब भी वहीं
जहाँ बैठ कर सोचा था हमने की ,
आज तो यहाँ कुछ खास होगा
वहीँ से बर्बादी की शुरुआत हो गयी ।

सफर ये जिंदगी बढ़ता चला गया
हम कुछ खास कर पाते ,
उससे पहले गलियां जाम हो गयी
पढाई से नौकरी ,
नौकरी से शादी
सपनों की तो जैसे भरमार हो गयी ,
लेकिन टूट गया वो हर एक सपना
जो मुझसे जुड़ा था ,
जब लड़के की सोच के आगे
मेरी हार हो गयी ,


लिख दी मैंने अपनी ही किस्मत
इस नरक के नाम ,
और आज एक बार फिर
इस खोखले समाज की जीत ,
और लड़की के सच्चाई की
हार हो गयी ,
जीत गया वो हर इंसा
जो इस रूढ़िवादिता से जुड़ा था ,
और खिलती वो कली -

बस मुरझाकर रह गयी

 

दीप्ति सक्सेना
सीकर रोड, जयपुर
राज ।

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------