दीप्ति सक्सेना की कविता - कब सुबह कब शाम हो गई...

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

image

चलते चलते जाने कब शाम हो गयी
घटी सारी घटनाएँ आम हो गयी ,
हम खड़े थे लेकिन अब भी वहीं
जहाँ बैठ कर सोचा था हमने की ,
आज तो यहाँ कुछ खास होगा
वहीँ से बर्बादी की शुरुआत हो गयी ।

सफर ये जिंदगी बढ़ता चला गया
हम कुछ खास कर पाते ,
उससे पहले गलियां जाम हो गयी
पढाई से नौकरी ,
नौकरी से शादी
सपनों की तो जैसे भरमार हो गयी ,
लेकिन टूट गया वो हर एक सपना
जो मुझसे जुड़ा था ,
जब लड़के की सोच के आगे
मेरी हार हो गयी ,


लिख दी मैंने अपनी ही किस्मत
इस नरक के नाम ,
और आज एक बार फिर
इस खोखले समाज की जीत ,
और लड़की के सच्चाई की
हार हो गयी ,
जीत गया वो हर इंसा
जो इस रूढ़िवादिता से जुड़ा था ,
और खिलती वो कली -

बस मुरझाकर रह गयी

 

दीप्ति सक्सेना
सीकर रोड, जयपुर
राज ।

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

0 टिप्पणी "दीप्ति सक्सेना की कविता - कब सुबह कब शाम हो गई..."

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.