राधास्वामी, अतुल कुमार मिश्रा की कविता - धरम की धारणा

clip_image002

धरम की धारणा

धरम की धारणा ने धरण ये धार लिया है,

कि ------ तेरा “तू” है,

और ----- मेरा “मैं” है,

जबकि होना यह था,

कि ------ न तेरा “तू” है,

और ----- न मेरा “मैं” है,

जिधर, देखो उधर विभ्रम है,

अरे भ्रम को निकालना ही तो धरम है,

जो धारणा थी, शांत-चित्त स्थिर हो बैठने की,

“आपे” को खोजने की,

clip_image004

अंतर में पैठने की,

लेकिन,

भुलावा, बहिर्मुखता लिए बैठा है,

अशांत चित्त, अस्थिर मन-बुद्धि

और आपस का झगड़ा, सारी कहानी कहता है,

अरे, ईश्वर “एक” है,

“एक” होने में ही शांति है, स्थिरता है,

उस “एक” को ही तो ढूंढना है,

इसीलिए तो शांत होना है,

स्थिर होना है,

और अंतर में पैठना है,

“निजता” को पाना है, “निजघर” पहुँचना है,

इस “धारणा” का धरण ही तो धरम है,

“धर-मम” इसमें कैसा भरम है |

-------

 

राधास्वामी, अतुल कुमार मिश्रा,

 

369, कृष्णा नगर, भरतपुर, राजस्थान -321001

0 टिप्पणी "राधास्वामी, अतुल कुमार मिश्रा की कविता - धरम की धारणा"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.