सोमवार, 16 नवंबर 2015

सागर यादव 'जख्मी ' के दोहे और 7 प्रेम कविताएँ

image
दोहे
------
1.होने को होती रही ,तुमसे मेरी बात |
पर मैं कह पाया नहीँ ,दिल के ये जज्बात ||
2.यदि जीने की चाह है ,पहले तज अभिमान |
प्यासे को पानी पिला ,दे भूखे को दान||
3.ईश्वर को भी दे हिला , इसमेँ इतनी शक्ति |
नारी शक्ति अपार है ,जगवाले पहचान ||
4. है कौन ऐसा जग मेँ ,क्या बेटा क्या बाप|
सब स्वार्थ को पूज रहे ,सब मेँ है संताप ||

प्रेम कविताएँ
---------
1. (पागल प्रेमी)

मैं हद से भी ज्यादा
तुम्हेँ प्यार करता हूँ

ये जानते हुए भी कि
तुम खुशी हो किसी गैर की
तुम पर हक है
किसी और का
और पीछे मुड़कर
नहीँ देखोगी मेरी तरफ |

2.(वादा)

तुमसा दोस्त खोने के बाद
मेरे दिल का गुलशन
उजड़ जायेगा

मेरी हर खुशी बदल जाएगी
मातम मेँ
और मैं टूटकर
बिखर जाऊँगा

तुम्हेँ तो पता है
कि टूटा हुआ इंसान
जिन्दा नहीँ रह सकता

आज़ वादा करो
मुझे कभी तनहा नहीँ छोड़ोगे तुम |

3.(खामोशी)

ना तुम कुछ बोलती हो
ना मैं कुछ बोलता हूँ

दोनो लब दिल की बातेँ कहने को
बेताब हैँ

एक लब तुम्हारा है
और एक मेरा |

4.(मेरी चाहत)

मैं ज्यादा कुछ नहीँ चाहता
सिवा इसके
कि मुझे अपना समझा तुम

बसा लो अपने चित्त मेँ
बना लो अपनी माँग का सिन्दूर
और सजा लो
अपने जूड़े मेँ
गजरा बनाकर |

5. (अंजाम)

मैं जानता हूँ
तुम्हारे और मेरे बिछड़ने का वक्त

एक दिन जरूर आयेगा और
हम दोनोँ जुदा हो जायेँगे

हमारे वफ़ा के गुल
खिलने से पहले ही
मुरझा जायेँगे

क्योँकि ,
हर मुलाकात का अंजाम
सिर्फ
जुदाई होती है |

6.(कसम)

तुम्हारे नाम पे जीना तुम्हारे नाम पे मरना ,

सनम चाहूँ उमर भर मैं तुम्हारे साथ मेँ रहना |

तुम्हेँ अपना बनाने की कसम खाया दीवाना दिल,

सुना दो फैसला अपना तुम्हेँ जो कुछ भी हो कहना |

7. (लड़कियाँ)

लड़कियाँ नहीँ कर सकती
बराबरी लड़कों की
यह कहा होगा किसी
पागल ने

वर्तमान मेँ लड़कियाँ
लड़कोँ से
बहुत आगे हैँ |

---------

सागर यादव 'जख्मी '

नराननपुर,बदलापुर,जौनपुर,उत्तर प्रदेश |
मो. 8756146096

----


(ऊपर का चित्र - सूर्य नारायण आचार्य, इंदौर की कलाकृति)

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------