सागर जी, जौनपुर उत्तर प्रदेश का मुक्तक पाठ सुनें यूट्यूब ऑडियो से

फ़ोन करें, अपनी आवाज में अपना रचना पाठ पूरी दुनिया को सुनाएँ कड़ी में आज प्रस्तुत है सागर जी, जौनपुर उप्र का कविता पाठ. नाम में केवल 'सागर जी' का उल्लेख इसलिए है, कि प्रारंभ में अपना संक्षिप्त परिचय देते समय उच्चारण थोड़ा सा अस्पष्ट है. सभी रचनाकारों से आग्रह है कि रेकॉर्ड करते समय स्पष्ट उच्चारण का विशेष ध्यान रखें, खासकर अपने परिचय के दौरान, क्योंकि  रचनाओं में  तो संदर्भ अनुसार अस्पष्ट उच्चारणों को भी समझा जा सकता है, मगर नाम में नहीं.

बहरहाल, मुक्तक पाठ सुनें -

टिप्पणियाँ

----------

10,000+ रचनाएँ. संपूर्ण सूची देखें.

अधिक दिखाएं

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

---

तकनीक व हास्य -व्यंग्य का संगम – पढ़ें : छींटे और बौछारें

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद/अनुसरण करें

परिचय

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com

अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

डाक का पता:

रचनाकार

रवि रतलामी

101, आदित्य एवेन्यू, भास्कर कॉलोनी, एयरपोर्ट रोड, भोपाल मप्र 462030 (भारत)

कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.

उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.


इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.