रचनाकार

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका

दीपक आचार्य का प्रेरक आलेख - आत्मघाती है आत्मप्रचार

image

दुनिया में आने वाला हर इंसान संसार को कुछ न कुछ देने के लिए आता है। इस दृष्टि से हर  मनुष्य का फर्ज है कि वह ऎसा कुछ करे कि जो जमाने के काम आए, समाज और मातृभूमि की सेवा में नया इतिहास रचे और जब ऊपर जाए तो कुछ उपलब्धियां लेकर जाए।

यह तो रही सिद्धान्त की बात। हर इंसान को इस मामले में गंभीर रहना ही चाहिए। यों भी हर इंसान यह चाहता है कि वह दूसरे लोगों के मुकाबले ऎसा कुछ करे कि जिससे समाज में उसकी मान-प्रतिष्ठा बढ़े, लोकप्रियता के शिखरों का स्पर्श करे और कीर्ति प्राप्त करे।

इसके लिए आत्मप्रचार का रास्ता सबसे सरल माना जाता है। आजकल इस मामले में हम सभी लोग खूब सक्रिय हैं। यों कहें कि अतिसक्रिय हैं तो  अधिक उपयुक्त होगा।

हमारे कर्म समाज और देश के लिए उपयोगी बनें, उनसे जगत को लाभ प्राप्त हो तथा आने वाली पीढ़ियाँ भी उन्हें याद रखें।

इस दृष्टि से आत्मप्रचार अपने आप में उपयोगी है। लेकिन जो आत्मप्रचार अपने ही अपने लिए हो, समाज और राष्ट्र को इसका कोई फायदा न हो, जगत के लिए किसी भी प्रकार का उपयोग न हो, उस आत्मप्रचार का कोई उपयोग नहीं है सिवाय अपने स्वार्थ पूरे करने के।

जिस किसी विचार के प्रसार में केवल वाणी का प्रभाव होता है, वह ज्यादा प्रभाव नहीं छोड़ पाता बल्कि कुछ समय ही इसका असर बना रहता है। जबकि वास्तविकता यह है कि जो लोग अच्छे काम करते हैं उनके कर्म की सुगंध ही अपने आप इतना प्रसार पा जाती है कि जिससे उन्हें अपने बारे में जगत को जनाने के लिए कुछ भी नहीं करना पड़ता।

जब एक बार किसी इंसान के श्रेष्ठ कर्मों की सुगंध पसर जाती है तब लोग उसका अपने आप अनुसरण करने लग जाते हैं। यह अनुसरण श्रद्धा और भक्ति के साथ होता है न कि ऊपरी तौर पर।

फिर आचरणों का अनुकरण हमेशा स्थायी प्रभाव छोड़ता है और वह इतना असरकारक होता है कि न सिर्फ कुछ वर्ष तक, बल्कि सदियों तक प्रभावशील रहता है। इसलिए श्रेष्ठ आचरण से बढ़कर दुनिया में ऎसा कुछ भी नहीं है जो पीढ़ियों तक के लिए कीर्ति प्रदान कर सके।

आत्मप्रचार करने वालों का वजूद ज्यादा समय तक नहीं रहता क्योंकि लोग जल्दी ही सत्य को भाँप जाते हैं। झूठ हो या सत्य कभी भी ढंका हुआ नहीं रह सकता। एक समय आने के बाद अपने आप इनका पूर्ण प्रकटीकरण हो ही जाता है।

इसलिए जो कुछ करें वह ऎसा करें कि जगत के लिए हो, श्रेष्ठ आचरणों वाला हो, ताकि आने वाली पीढ़ियां भी श्रद्धापूर्वक स्मरण करते हुए अनुकरण कर आनंददायी प्रेरणा प्राप्त कर सकें।

 

---000---

दीपक आचार्य के प्रेरक आलेख inspirational article by deepak aacharya

- डॉ0 दीपक आचार्य

  dr.deepakaacharya@gmail.com

विषय:

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

रचनाकार में ढूंढें...

आपकी रूचि की और रचनाएँ -

randompost

कहानियाँ

[कहानी][column1]

हास्य-व्यंग्य

[व्यंग्य][column1]

लघुकथाएँ

[लघुकथा][column1]

कविताएँ

[कविता][column1]

बाल कथाएँ

[बाल कथा][column1]

लोककथाएँ

[लोककथा][column1]

उपन्यास

[उपन्यास][column1]

तकनीकी

[तकनीकी][column1][http://raviratlami.blogspot.com]

वर्ग पहेलियाँ

[आसान][column1][http://vargapaheli.blogspot.com]
[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget