सागर यादव 'जख्मी' की प्रेम कविताएँ

image
1.  तुम बिन
------------

तुम बिन मैं जी ना पाऊँगा |

अपने इस छोटे से हृदय मेँ ,

जाने कितने ख्वाब सजाये

तोड़ जग के सारे बंधन ,

तुमसे हम सम्बन्ध बनाये

ये जहर-ए-जुदाई

किसी कीमत पे पी न सकूंगा ,

तुम बिन मैं जी ना सकूंगा |

मेरे जीवन के मालिक तुम हो,

मैं इक दरिया और
साहिल तुम हो

अपने दिल के घावोँ को

अश्कोँ से धो ना पाऊँगा ,

तुम बिन मै जी ना पाऊँगा |



2.तुम्हेँ देखने के बाद
---------------

पल भर का भी सुख

मेरी किस्मत मेँ नहीँ

मगर ,तुम्हेँ देखने के बाद

मैं डूब जाता हूँ

तुम्हारे प्यार के अथाह सागर मेँ |

----------------



सागर यादव 'जख्मी'

नरायनपुर,बदलापुर,जौनपुर,उत्तर प्रदेश,भारत |

मो.8756146096

टिप्पणियाँ

----------

10,000+ रचनाएँ. संपूर्ण सूची देखें.

अधिक दिखाएं

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

---

तकनीक व हास्य -व्यंग्य का संगम – पढ़ें : छींटे और बौछारें

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद/अनुसरण करें

परिचय

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com

अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

डाक का पता:

रचनाकार

रवि रतलामी

101, आदित्य एवेन्यू, भास्कर कॉलोनी, एयरपोर्ट रोड, भोपाल मप्र 462030 (भारत)

कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.

उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.


इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.