पाठकीय : पीयूष गुप्ता की हास्य-व्यंग्य कविता - नेता

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

image

 

नेता


पाँच साल में एक बार
मैं धरती पर आ जाता हूँ

मीठा-मीठा बोलकर
मैं जनता को बहलाता हूँ

पाँच साल में एक बार
मैं धरती पर आ जाता हूँ

करके वादे, लेकर कसमें
सबको विश्वास दिलाता हूँ
पाँच साल में एक बार
मैं धरती पर आ जाता हूँ

जनता भोली बन जाती है
मैं कुर्सी पे जम जाता हूँ

पाँच साल में एक बार
मैं धरती पर आ जाता हूँ

जीत चुनाव में सबको
अपना रंग दिखलाता हूँ

पाँच साल में एक बार
मैं धरती पर आ जाता हूँ

                     पीयूष गुप्ता

नाम-पीयूष गुप्ता
जन्म-22-9-2002
पिता-श्री अनूप गुप्ता
माता-श्रीमती नीलम गुप्ता
राज्य-उत्तर प्रदेश
हिन्दी साहित्य की प्रमुख विधाएं जैसे आलोचना, लेख, समीक्षा, कविता, गीत, गजल, कहानी, यात्रा वृत्तांत आदि विधाओं में स्फुट लेखन।
बड़े-बड़े लेखकों का आशीर्वाद प्राप्त

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

0 टिप्पणी "पाठकीय : पीयूष गुप्ता की हास्य-व्यंग्य कविता - नेता"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.