रविवार, 8 नवंबर 2015

प्रदीप कुमार साह की लघुकथा - प्रयत्न

------------------------------

एकबार कोई जिज्ञासु किसी तपोमूर्ति साधु को प्रणाम निवेदित कर उनके समक्ष अपना यक्ष प्रश्न रखा-"हरि कथा सुनने में मेरी अत्यन्त प्रीति है; जितना सुनता हूं मन नहीं भरता. किन्तु अभी तक हरि कौन हैं और हरिकथा सुनना किसलिए का समाधान नहीं हुआ.

जवाब मिला-"हरि अनंत हरि कथा अनंता; निज मति अनुरुप गावहि श्रुति संता. अर्थात् हरि अनंत स्वरुप, प्रत्येक जड़-चेतन जीव एवं उनके गुण-धर्म अर्थात स्वभाव एवं उनके कर्म-विकर्म के कर्म फल हैं. अनंत द्वारा स्वभावतः रचित चरितार्थ कर्म की व्याख्या (कथा) निश्चय ही उनसे अधिक बड़ा है,जो सभी जानते हैं. किंतु इच्छा भी अनंत होती हैं. जब हरि और इच्छा दोनों अनंत हैं फिर एक त्याज्य क्यों? वास्तव में त्याज्य कोई नहीं. दोनों धनुष के दो सिरे हैं, जो एक कभी नहीं हो सकते किन्तु परिपूरक आवश्य हैं. प्रयत्न -रुपी कर्म की रस्सी से दोनों का सामजस्य रखना परम आवश्यक हैं. प्रयत्न विचार के अनुरुप ही होता है. 'सामजस्य विचार' प्राप्ति हेतु इच्छा का नियंत्रित होना आवश्यक है. इच्छा पर नियंत्रण स्वभावतः होता है. स्वभाव निर्माणहेतु हरिगुण या सद् गुण ग्रहण करने हेतु कर्म एंव प्रयत्न किये जाते हैं. वही कथा सुनना 'प्रयत्न' है. कहा भी गया है कि 'कर्म प्रधान विश्व करि राखा,जो जस करहिं सो तस फल चाखा.' कर्म का सार तत्व प्रयत्न है."

ऐसा कहते हुये साधु तप –लीन होने के प्रयत्न करने लगें और अपने प्रश्न का समाधान पाकर जिज्ञासु साधु को प्रणाम कर विदा लिया.

(सर्वाधिकार लेखकाधीन)

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------