मनोज मोक्षेन्द्र की कहानी - 'भूख भड़सांय' का पाठ

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

मनोज मोक्षेन्द्र : इस कहानी के बारे में मैं दो-शब्द कहना चाहूंगाः एक बार मशहूर कथाकार संजीव ने टेलीफोन पर बात करते समय मुझसे कहा था कि भूख और बेकारी पर आजकल कहानियाँ नहीं लिखी जा रही हैं। तब मैंने कहा था कि भूख और बेकारी पर इस कहानी से अधिक मार्मिक कोई और कहानी विरले ही हो सकती है। इसके अतिरिक्त मेरी कई और कहानियाँ भी भूख, बेकारी, बेग़ारी और ग़रीबी पर केंद्रित हैं

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

0 टिप्पणी "मनोज मोक्षेन्द्र की कहानी - 'भूख भड़सांय' का पाठ"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.