मुकुल कुमारी अमलास की कविता - मुझे इसी क्षण में जीने दो

image

मुझे इसी क्षण में जीने दो

डाल डाल पर फूल खिल रहे
कण कण मृदु पराग झड़ रहे
शेफालिका के पुष्प सदृश ही
धरती पर मुझे बिखड़ने दो  

वनस्पतिहीन है वंजर धरती
घनघोर प्रलय की  बेला में
अमृतकोश में संचित घट सा
बूँद बूँद  मुझे टपकने दो ।

मौजें उंची घुप्प अँधेरा
अमावश की तूफानी बेला
दिशाहीन,दिगभ्रमित नाव सा
सागर में आज भटकने दो ।

पर्वत  पिछे दूरस्थ गाँव में
नीरव और एकांत ताल में
सुबह सुबह जब कोयल बोले
नीलकमल सा खिल जाने दो ।

नील गगन में मेघ तीर रहे
चारो ओर घनघोर घटा है
बूंद बूंद पिघल बादल सा
धरती पर आज बरसाने दो ।

बड़ा सुनहरा भाल गगन का
बड़ी प्रीतिकर प्रात की  बेला
प्रकृति है सुंदर जीवन है छोटा
मुझे इसको दृग में भरने दो |

शुभ्र सफेद बादल उड़ रहे
जैसे नीले जल में हंस तीर रहे
सफेद कपोत के जोड़े सा
मुझे नील गगन में उड़ने दो ।

माँ के लहू से सिंचित होकर
जैसे गर्भ में पलता जीवन
लगकर वक्ष से अपनी माँ के
मुझे अमिय रस पीने दो  ।

कण कण अणु अणु में स्थित
जो कर्णधार जीवन का है
उस परमपिता निराकार तक
बिन बाधा आज पहुंचने दो ।

झिर झिर कर हवा चल रही
कृष्णकमल की गंध उड़ रही
सबकुछ है इस पल में समाया
इस पल को खुद में समोने दो ।

मुझे इसी क्षण में जीने दो | 

                  - मुकुल कुमारी अमलास 

-----------

-----------

0 टिप्पणी "मुकुल कुमारी अमलास की कविता - मुझे इसी क्षण में जीने दो"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.