रचनाकार

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका

सुधा शर्मा की हास्य-व्यंग्य कविता : सब्जी का शोरूम

image

सब्जी का बहुत बड़ा शोरूम खुला था,
वेजिटेबिल शोरूम ज्वैलर्स शॉप की नकल था.
काउंटर पर छोटा सा धर्मकॉंटा लगी था,
शोरुम के गेट पर पहरेदार खड़ा था .
       कांच के शोकेस में माल रखा था,
       सभी पर रेट का लेबल जड़ा था.


भिंडी हजार रूपए तौला 
,घीया पर डिस्काउंट चला था.
प्याज आउट आफ स्टॉक ,
अरबी के भाव से दिल दहला था.
       करेला पहुंच से बाहर था,
       टमाटर, आलू पर खुला ब्लैक चला था.


कटहल के रेट सुनकर
सिर चक्कर खा रहा था.
हरी मिर्च और धनिया,
बढ़  चढ़कर मुंह चिढ़ा रहा था.
       मैंने थैले को  तह बनाकर,
       शर्म से चुपचाप रख लिया.
     सब्जी खरीदने के जुगाड़ पर
    मन ही मन विचार किया.
शोरुम के बाहर खड़ा होना भी,
औकात से बाहर नजर आ रहा था.


          सोचा बैंक में जाकर ,
          लोन के लिए अर्जी दूंगी.
         फल व सब्जी के लिए ,
          एक लाख का लोन लूंगी.
लोन का फार्म पढ़,
बैंक मैनेजर ने बुलाया.
ऊपर से नीचे तक देखा.
और मेरी हैसियत का जायजा लगाया.
          बोला तू मुझे उल्लू बना रही है
           प्याज,फल खाने के सपने सजा रही है.


सब्जी खाकर तू लोन,
हजम कर जाएगी.
ब्याज तो दूर,
तू मूल भी नहीं चुकाएगी.
        सब्जी के लिए लोन कैसे चुकाएगी
        ये सोचकर डरते हैं.

रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget