आलेख || कविता ||  कहानी ||  हास्य-व्यंग्य ||  लघुकथा || संस्मरण ||   बाल कथा || उपन्यास || 10,000+ उत्कृष्ट रचनाएँ. 1,000+ लेखक. प्रकाशनार्थ रचनाओं का  rachanakar@gmail.com पर स्वागत है

-------------------

राजेन्द्र नागदेव की कविताएँ

image

जहर 
     
बहुत दूर तक नहीं जाना है
आसपास ही देखना है
बगल में सहमी-सहमी खड़ी हवा को छूना है
समझने  के लिए कि जहर क्या होता है

आभार किसी का कि हम जीवित हैं अभी तक
अभी तक मुर्गियाँ  दे सकती हैं अण्डे    
चूजों के साथ चुग सकती हैं दाने
अभी तक बकरियाँ  चर सकती हैं हरी घास
अभी तक चिड़िया सकोरे से पी सकती है पानी
क्योंकि मुर्गियों, बकरियों, चिड़ियों की कोई विचारधारा नहीं होती

अभी तक डरे हुए-से ही सही
बैठ सकते हैं बरामदे में
चाय के साथ पीते हुए अखबार
जबकि, हम नहीं जानते
अखबार के पीछे की हवा
कब हथियार में बदल जाए

कल दूर वह जो धब्बा-सा था वहाँ
काले बवंडर में बदल गया है

चिड़ियों, मुर्गियों, बकरियों तक को
हो जाना चाहिए सावधान
कोई विचारधारा उनके लिये भी गढी जा रही होगी कहीं
लिखी जा रही होगी उनके लिये आचार-संहिता।
*                  *               *               *
                                                

  

बिका हुआ घर
         

एक चील की छाया अभी-अभी ज़मीन पर चलती हुई
छत पर चढी
फिर जमीन पर दूसरी तरफ उतर
पेड़ों के झुरमुट में समा गई

अब वहाँ कोई नहीं रहता
जाने किसने, जाने कब
जाने किनके लिए बनाया  होगा मकान
जो अब उम्र के आखिरी दौर  में है
और कभी भी अपनी ज़मीन के साथ खरीद लिया जाएगा

लगता है चील कोई आत्मा है
मकान कभी इसका घर रहा होगा
कई संबंध कोई संबंध न रहने पर भी टूटते नहीं
जलते नहीं पिघलते नहीं,
नहीं रहा मकान आदमी के अंदर रहता है

सहज नहीं होता
बचपन, यौवन और बुढापा
किसी घर-आंगन में छोड़ बिना मुड़े निकल जाना
गोबरलिपी ज़मीन की गंध
खपरैलों में बसे घोंसलों में गोरैया के अण्डे
दरकती दीवारों में गुमसुम पड़ी कितनी ही स्मृतियाँ
एक भरापूरा संसार कल दब कर ज़मीन पर बिछ जाएगा
आकाश तक फैली इमारत की नींव बन

बरसों बाद कोई आएगा कुछ ढूँढता हुआ
पूछेगा यहीं तो था मेरा घर
दिखाई क्यों नहीं देता?
*                  *                   *  

          राजेन्द्र नागदेव
                                        डी के 2 – 166/18, दानिशकुंज
                                        कोलार रोड, भोपाल- 462042
              फो 0755 2411838   मो 8989569036     

टिप्पणियाँ

----------

10,000+ रचनाएँ. संपूर्ण सूची देखें.

अधिक दिखाएं

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

---

तकनीक व हास्य -व्यंग्य का संगम – पढ़ें : छींटे और बौछारें

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद/अनुसरण करें

परिचय

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com

अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

डाक का पता:

रचनाकार

रवि रतलामी

101, आदित्य एवेन्यू, भास्कर कॉलोनी, एयरपोर्ट रोड, भोपाल मप्र 462030 (भारत)

कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.

उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.


इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.