गुरुवार, 12 नवंबर 2015

प्रदीप कुमार साह की कहानी - त्याग और प्रेम

clip_image001[4]

 

_______________________________________

एक समय किसी गाँव के समीप एक सुन्दर सरोवर हुआ करता था. सरोवर के पास छोटा सा एक पवित्र मंदिर था. उसी मंदिर के पास अत्यंत वृद्ध किंतु परम परोपकारी सन्यासिनी झोपड़ी में रहती थी. उनके पास नित्य बहुत से लोग अपनी समस्याओं के निराकरण हेतु आते थे.

एक दिन एक समृद्ध युवा दंपत्ति आकर उनसे कहने लगे कि उन्हें सुख और शांति का अनुभव नहीं होता. कारण पुछने पर पत्नी ने कहा कि उसका पति उससे उतना प्रेम नहीं करते जितना वह करती है. पति का शिकायत भी वही था.

उनकी बातें सुनकर वृद्ध सन्यासिनी थोडी देर कुछ सोचती रही . फिर उनसे सामने सरोवर से एक कमल -पुष्प लाने को कहा. दंपति पुष्प लेने चल दिये. पति पुष्प लेने के लिये सरोवर में गया तो दलदल में फँस गया और पत्नी से मदद मांगने लगा. पत्नी इधर-उधर देखने लगी कि कोई मदद मिल जाये. परंतु वहाँ कोई नहीं था. अचानक उसकी दृष्टि एक लता पर गयी और वह लता लाकर उसकी एक सिरा पति के तरफ दिया और पति से उसे पकड कर बाहर आने के लिये कहा. किंतु लता की वह रस्सी छोटी थी जो उस तक पहुँच नहीं रहा था. किंतु पत्नी आगे बढकर उस सिरा को पति तक पहुँचाना नहीं चाहती थी क्योंकि उसे डर लग रहा था कि वह भी पति के तरह दलदल में फॅस न जाए. पति उत्तरोत्तर दलदल में अंदर धँसता जा रहा था पर वह बिल्कुल भी हिम्मत बटोर नहीं पा रही थी. ऐसा देखकर वृद्ध सन्यासिनी आगे बढकर लता की सिरा पति तक पहुँचाया तो उस पत्नी की हिम्मत भी बंधी. जब पति लता के सहारे दलदल से बाहर निकला और पत्नी पर क्रोध से चिल्लाने लगा तब वृद्ध सन्यासिनी ने उन्हें शांत किया. अब वृद्ध सनयासिनी के सामने पुष्प न ला पाने के कारण लज्जित युवा दंपत्ति खड़े थे.

सन्यासिनी ने पति को संबोधित कर कहा कि वह कुछ भी काम करने से पहले संयम से अच्छी तरह सबकुछ सोच समझकर भावी योजना बनाया करे. संयम क्रोधादि दुर्गुणों को हटाकर और सद्गुण का विकास कर पाया जा सकता है. इसलिए वह सद्गुणों के विकास का नित्य अभ्यास करे और क्रोध न करे. सभी से प्रेम करे.

पुनः पत्नी से कहा कि तुम्हारे पास प्रेम तो बहुत है किंतु त्याग नहीं. त्याग के बिना प्रेम निष्प्राण है. त्याग के भाव के बिना हिम्मत पैदा नहीं हो सकता. हिम्मत जीवन का सबसे बड़ा ऊर्जा सूत्र है. इसके बिना कोई भाव, कोई विचार कार्यरूप में नहीं बदलता. इस तरह तुम्हारा प्रेम भी त्याग के बिना वाह्यरूप में प्रकट होने से रह जाता है. साथ ही त्याग सभी गुणों का मुल है और त्याग के गुण भी समस्त लोभादि दुर्गुणों पर नियंत्रण पाने पर आता है.

अपनी कमियों को स्वीकारते हुए उस युवा दंपत्ति ने अत्यंत लज्जित होकर एक दूसरे से माफी मांगी. फिर वृद्ध सन्यासिनी को अपने दुर्गुण त्यागने का वचन दे कर विदा मांगा.

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------