आलेख || कविता ||  कहानी ||  हास्य-व्यंग्य ||  लघुकथा || संस्मरण ||   बाल कथा || उपन्यास || 10,000+ उत्कृष्ट रचनाएँ. 1,000+ लेखक. प्रकाशनार्थ रचनाओं का  rachanakar@gmail.com पर स्वागत है

-------------------

भूपेश देवांगन की दीपावली की कविता–चलो दिवाली मनाते हैं

चलो दिवाली मनाते हैं

कोना कोना झाड़ कर, हर जाला हटाते हैं।

गंदी धूल सनी चीजें, पोछकर चमकाते हैं।

बेकार पड़े सामान भी, कबाड़ी को दे आते हैं।

रंग बिरंगे पेंट से, सारा घर रंग जाते हैं।।

 

महिने से दरजी के पास पड़े, पापा के कपड़े लाते हैं।

मां की साड़ी के लिए, बाजार के चक्कर लगाते हैं।

अपनी जींस टी शर्ट तो, झट से खरीद आते हैं।

धुलकर इस्तरी किए कपड़े , इतर से महकाते हैं।।

 

बाजार से खील बताशे, और मिठाइयां ले आते हैं।

गुझिया नमकीन बनाने में, मां का हाथ बंटाते हैं।

खुशबू से मजबूर होकर, रसोई के चक्कर लगाते हैं।

गर्मागर्म बड़े पकोड़े के, चटनी संग मजे उठाते हैं।।

 

अपने बेस्ट फ्रेंड को, ग्रीटिंग कार्ड दे आते हैं।

हैप्पी दिवाली ग्रुप में, सबको विश कर आते हैं।

पड़ोसियों से मिलकर, शुभकामना दे आते हैं।

फोन पे दोस्तों रिस्तेदारों से, जीभर गपियाते हैं।।

 

दूरदराज बैठे किसी, अपने से जुड़ जाते हैं।

इंटरनेट पर ही उसे, बधाई दे आते हैं।

इन दूरियों को अपनी, हंसी से मिटाते हैं।

उसका अकेलापन, खुशियों से भर आते हैं।।

 

इक बिंदु से दूजा बिंदू, रेखा से मिलाते हैं।

कुछ रेखाएं जोड़कर, इक आकार बनाते हैं।

फिर इन आकारों को, रंगों से सजाते हैं।

घर आंगन बाहर, रंगोली से भर आते हैं।।

 

दिन भर धूप खाए, पटाखे छुड़ा आते हैं।

अनार की झिलमिल से, आंगन सजाते हैं।

आसमान को रंगीन, सितारों से जगमगाते हैं।

इन टूटते तारों से, कुछ ख्वाहिशें मांग आते हैं।।

 

दरवाजे को आम पत्तों के, तोरण से सजाते हैं।

घर की लक्ष्मी को पूजा की, थाली में सजाते हैं।

माता की अनुपम छवि, दियों से जगमगाते हैं।

सबके सुख-समृद्धि की, प्रार्थना कर आते हैं।।

 

पानी से भीगे दियों में, तेल बाती लगाते हैं।

दियों को जलाकर, जगमग थाल सजाते हैं।

कुछ कमरे कुछ देहरी, कुछ छत पे रख आते हैं।

घर का हर कोना कोना, रोशनी से भिगाते हैं।।

 

गांव चलकर माथे पे, गोबर का टीका लगाते हैं।

गाय बछड़े पूजकर उनसे, गोबर्धन भी खुंदाते हैं।

गाय की जूठी खिचड़ी का, प्रसाद भी पाते हैं।

तंग संकरी गलियों से, मातर लेकर आते हैं।।

 

पटाखों के टुकड़ों से भरे, बाहर साफ कर आते हैं।

बिनजले पटाखों के बारूद, इकट्ठा कर जलाते हैं।

दूर पे चाचा के घर पर, मिठाई पंहुचा कर आते हैं।

उनके बचे बम पटाखे, उनके द्वार पर लगाते हैं।।

 

भूपेश देवांगन

पता:

Bhupesh Kumar

Q. No. C-89/F

Rail Vihar Colony, Chandrashekharpur

Bhubneshwar(Odisha)

PIN- 751017

टिप्पणियाँ

----------

10,000+ रचनाएँ. संपूर्ण सूची देखें.

अधिक दिखाएं

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

---

तकनीक व हास्य -व्यंग्य का संगम – पढ़ें : छींटे और बौछारें

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद/अनुसरण करें

परिचय

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com

अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

डाक का पता:

रचनाकार

रवि रतलामी

101, आदित्य एवेन्यू, भास्कर कॉलोनी, एयरपोर्ट रोड, भोपाल मप्र 462030 (भारत)

कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.

उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.


इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.