मंगलवार, 17 नवंबर 2015

दीपक आचार्य का आलेख - ख्याल रखें औरों का भी

image

उदारता दैवीय गुण है। जो जितना अधिक उदारमना होता है उतना अधिक भगवान के करीब माना जाता है।

इंसान के पास कितना ही धन-वैभव हो, उसका कोई अर्थ नहीं यदि वह सिर्फ अपने ही अपने पर खर्च करता है, औरों के लिए खर्च करने में मौत आती है।

इस दृष्टि से सारे कृपण और मक्खीचूस लोग उस श्रेणी के मानवों में आते हैं जिनसे परमात्मा दूर रहता है। ऎसे लोगों पर भगवान की कृपा अपेक्षाकृत कम होती है।

ईश्वर हमेशा उसी पर मेहरबान होता है जो समाज और क्षेत्र के प्रति संवेदनशील होता है, अपने परिचितों और जरूरतमंदों को प्रसन्न रखने का दिली ख्याल रखता है तथा जहां जरूरत होती है वहां मुक्त मन से उदारतापूर्वक खर्च करता है।

ईश्वर किस पर कितना प्रसन्न है यह देखना हो तो उदारता ही सबसे बड़ा संकेतक है।  पूरी दुनिया कृपण और उदार दो वर्गों  में विभक्त है। उदारता का यह अर्थ नहीं है कि हम बिना सोचे-समझें रुपया-पैसा बहाते रहें।

मितव्ययता जरूरी है लेकिन जहां जरूरत हो वहां, जिनके लिए जरूरत हो वहाँ भी कुछ खर्च न करने की जो लोग मानसिकता पाले बैठे होते हैं, असल में ये लोग ही सामाजिकता के आवरण में असामाजिक से कम नहीं हैं।

बहुत कम लोग ऎसे होते हैं जो कि समाज के हर घटक और क्षेत्र के प्रति संवेदनशील होते हैं तथा इस बात को अच्छी तरह समझते हैं कि उन्हें किस इंसान या क्षेत्र के लिए किस समय किस तरह मदद करनी है।

पर बहुतायत उन लोगों की है जो हर क्षण अपने ही अपने में जीने के आदी होते हैंं। इन लोगों को इस बात से कोई सरोकार नहीं होता कि कौन किस हाल में जी रहा है, किसे किस वस्तु का अभाव है और किसे हमसे क्या अपेक्षा है।

जो इंसान सामने वालों की अपेक्षाओं को भाँप जाता है, दूसरों को खुश करने में कामयाब हो जाता है वह जमाने में सर्वस्पर्शी और सर्वमान्य होने लगता है। लेकिन इसके लिए यह जरूरी है कि हम लोग अपने मूल्यों के प्रति अडिग रहें, जीवन को औरों के लिए जीने की कोशिश करें तथा ऎसा कुछ करें कि समाज में अच्छा संदेश जाए और दूसरे लोगों को भी प्रेरणा मिले।

हममें से बहुत सारे लोग हैं जिनके लिए उदारता का कोई अर्थ नहीं है। ये लोग खान-पान और व्यवहार से लेकर जीवन के तमाम पक्षों में हमेशा अपनी ओर से कुछ भी खर्च करना नहीं चाहते बल्कि उनके मन में यही होता है कि दूसरों से किस प्रकार अपने काम करवा लें, परायों के खर्च पर खान-पान और संसाधनों की उपलब्धता कैसे हो पाए।

बहुत सारे लोग प्राप्ति के मामले में अकेले ही अकेले सब कुछ पा जाने को सदैव उतावले बने रहते हैं जैसे कि ये लोग जमाने भर को लूटने के लिए ही पैदा हुए हों। जहां कहीं ये लोग होंगे वहां सब कुछ अपनी झोली में लाने में लाने के लिए दिन-रात पागलों की तरह उलझे रहेंगे और जहां कुछ मिलने की उम्मीद न हो वहां भोले-भाले लोगों का मुफतिया जमावड़ा कर लिया करते हैं।

हमारे आस-पास रहने वाले और हमारे भरोसे रहने वाले लोगों की सभी प्रकार की चिन्ता करना, उनके योगक्षेम के प्रति संवेदनशील होना तथा उनका सहयोग करते हुए विश्वास जीतने का काम हर कोई नहीं कर सकता है।

जो लोग यह काम कर पाते हैं वास्तव में वे ही धन्य हैं, दूसरे तो सिर्फ इंसानी पुतलों के सिवा कुछ नहीं हैं जो कि काम, क्रोध, लोभ, मोह आदि विकारों की हवाओं से ही हिलते-डुलते और जीते-मरते हैं।

दुनिया में कोई कितना ही वैभव क्यों न पा ले, लोग उन्हीं को याद करते हैं जो औरों के काम आते हैं। उन्हीं का इतिहास लिखा जाता है जो त्याग-तपस्या, सादगी और अपरिग्रह के साथ परम उदारता, दया और कृपालु भावों के होते हैं।

जहां कहीं रहें वहां औरों का पूरा-पूरा ख्याल रखें, इसी में हम सभी का भला है।  इस मामले में सच्चे इंसान वे ही हैं जो हरेक इंसान में भगवान को देखते हैं। हम सभी का कत्र्तव्य है कि इंसानियत को बचाए रखने के लिए अपनी ओर से हरसंभव उपाय करें, अपनी जिन्दगी को औरों के लिए समर्पित करें और ‘परहित सरिस धर्म नहीं भाई, पर पीड़ा सम नहीं अधमाई’ को आत्मसात करते हुए जगत का कल्याण करने में भागीदारी निभाएं।

 

---000---

दीपक आचार्य के प्रेरक आलेख inspirational article by deepak aacharya

- डॉ0 दीपक आचार्य

  dr.deepakaacharya@gmail.com

--

(ऊपर का चित्र - कमलेश कुमार वर्मा की कलाकृति)

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------